'इस्लामिक स्टेट के 10,000 लड़ाके मारे गए'

  • 4 जून 2015
इस्लामिक स्टेट लड़ाके इमेज कॉपीरइट AFP GETTY
Image caption फ़रवरी में अमरीकी कांग्रेस में पेश किए गए आंकड़ों में कहा गया था कि इस्लामिक स्टेट में 20 हज़ार से 32 हज़ार लड़ाके हो सकते हैं.

अमरीका का कहना है कि सीरिया और इराक़ में अंतरराष्ट्रीय गठबंधन का हवाई अभियान शुरू होने के बाद से इस्लामिक स्टेट के दस हज़ार से अधिक लड़ाके मारे जा चुके हैं.

अमरीका के उप विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकेन ने फ़्रांस इंटर रेडियो को बताया कि पिछले नौ महीनों में इस्लामिक स्टेट को भारी नुक़सान हुआ है.

उन्होंने यह भी कहा कि इस्लामिक स्टेट अभी भी हमले करने की क्षमताएं रखता है.

ब्लिंकेन पेरिस में इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ लड़ रहे अंतरराष्ट्रीय गठबंधन की बैठक के बाद बोल रहे थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अमरीका ने दावा किया है कि दस हज़ार से ज़्यादा आईएस लड़ाके मारे जा चुके हैं.

हवाई हमले नाकाम नहीं

उन्होंने फ़्रांस इंटर से साक्षात्कार में कहा कि गठबंधन का अभियान नाकाम नहीं हुआ है.

Image caption इस्लामिक स्टेट ने सीरिया और इराक़ के बड़े हिस्से पर क़ब्ज़ा कर लिया है.

उन्होंने कहा कि अब इराक़ में इस्लामिक स्टेट के क़ब्ज़े में 2014 के मुक़ाबले 25 फ़ीसदी कम इलाक़ा है.

उन्होंने हाल के दिनों में इस्लामिक स्टेट की रमादी में बढ़त को भी स्वीकार किया.

उन्होंने कहा कि अब तक इस्लामिक स्टेट के दस हज़ार से ज़्यादा लड़ाके मारे गए हैं हालांकि उनके इस दावे की स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं की जा सकती है.

Image caption इराक़ी प्रधानमंत्री हैदर अल अबादी का कहना है कि रमादी पर इस्लामिक स्टेट का क़ब्ज़ा अंतरराष्ट्रीय समुदाय की नाकामी है.

रमादी

सीरिया पर नज़र रख रहे ब्रिटेन स्थित संगठन सीरियन ऑब्ज़रवेटरी फ़ॉर ह्यूमन राइट्स का कहना है कि अप्रैल के अंत तक सीरिया में गठबंधन सेनाओं के हवाई हमलों में 1922 लड़ाके और 66 आम नागरिक मारे गए थे.

बैठक में इराक के प्रधानमंत्री हैदर अल अबादी ने रमादी शहर को आईएस से छीनने और सीरिया में संघर्ष समाप्त करने के लिए तेज़ कार्रवाई के प्रस्तावों का समर्थन किया गया.

इस्लामिक स्टेट ने इराक़ और सीरिया के बड़े हिस्से पर क़ब्ज़ा कर लिया है और पिछले कुछ हफ़्तों में उसने कई मोर्चों पर बढ़त हासिल की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार