सऊदी सीमा पर हमले में कइयों की मौत

हूती विद्रोही इमेज कॉपीरइट AP

सऊदी अरब और यमन की सीमा पर हुई झड़पों में चार सऊदी सैनिक और कई विद्रोही मारे गए हैं.

सऊदी अरब की अगुवाई वाले गठबंधन ने एक बयान में कहा कि यमन के पूर्व राष्ट्रपति के समर्थक फ़ौजों ने हूती विद्रोहियों के साथ मिलकर शुक्रवार को सऊदी अरब के ठिकानों पर हमले किए.

बयान में कहा गया है कि विद्रोहियों ने सऊदी सीमा में घुसने की कोशिश की लेकिन इसे नाकाम कर दिया गया.

इस बीच हूती विद्रोही जिनेवा में शांति वार्ता में हिस्सा लेने पर सहमत हो गए हैं.

संयुक्त राष्ट्र की मध्यस्थता में 14 जून को होने वाली इस वार्ता का मकसद कई हफ़्तों से चल रही लड़ाई को ख़त्म करना है.

बैठक में हिस्सा लेने पर सहमति

इस लड़ाई में अब तक क़रीब 2,000 लोगों की जान जा चुकी है.

हूती विद्रोहियों की राजनीतिक शाखा के वरिष्ठ सदस्य दैफल्लाह अल शमी ने कहा, "हमने जिनेवा वार्ता में शामिल होने के संयुक्त राष्ट्र के निमंत्रण को सशर्त स्वीकार कर लिया है."

रियाद से संचालित यमन की सरकार ने भी इस बैठक में हिस्सा लेने पर सहमति जताई है.

यमन के निर्वासित राष्ट्रपति अब्द रब्बू मंसूर हादी के समर्थन में सऊदी अरब की अगुवाई वाला गठबंधन पिछले 10 हफ़्तों से विद्रोहियों के ठिकानों पर बमबारी कर रहा है.

हूती विद्रोहियों ने पिछले साल सितंबर में राजधानी सना पर क़ब्जा कर लिया था और उसके बाद देश के अधिकांश हिस्से पर अधिकार जमा लिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)