जी-7 बैठक जर्मनी में, नज़रें रूस पर

g7 leaders इमेज कॉपीरइट

दुनिया के अमीर देशों के नेता जर्मनी के बवेरियन आल्प्स में होने वाले जी-7 के वार्षिक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे.

इस बैठक में पूर्वी यूक्रेन में चल रहे संघर्ष को समाप्त करने के लिए रूस पर राजनयिक दबाव बनाने के लिए विचार हो सकता है.

ग्रीस का ऋण संकट और धरती के बढ़ते तापमान की समस्या भी इस बैठक के एजेंडे में शामिल है.

जी-7 को पहले जी-8 के नाम से जाना जाता था लेकिन पिछले साल क्राइमिया पर आक्रमण के बाद रूस को इससे बाहर कर दिया गया था.

सैन्य दबाव

इमेज कॉपीरइट Reuters

बैठक में रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन पर सबसे ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा क्योंकि जी-7 देशों को आशंका है कि वह जानबूझकर पूर्वी यूक्रेन में सैन्य दबाव बढ़ा रहे हैं.

ब्रिटेन, जर्मनी और अमरीका एक ऐसा समझौता करना चाहते हैं जिसमें यूरोपीय संघ के उन देशों को सहयोग दिया जा सके जिन्हें रूस पर लगे प्रतिबंधों को समर्थन न करने के लिए लालच दिया जा रहा है.

इन प्रतिबंधों के कारण रूस की अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही है.

पूर्वी यूक्रेन में रूस के दख़ल की आशंका को देखते हुए पश्चिमी देश पूर्वी यूरोप के देशों में अपनी सैन्य मौजूदगी बढ़ा रहे हैं.

लेकिन पुतिन ने शनिवार को कहा कि पश्चिमी देशों को रूस के कोई ख़तरा नहीं है और उन्हें दूसरे मुद्दों की चिंता करनी चाहिए.

पुतिन ने इटली के अख़बार कॉरियर डेला सेरा से कहा, "कोई बेदिमाग आदमी ही सोच सकता है कि रूस अचानक नैटो पर हमला कर देगा."

उन्होंने कहा, "दुनिया इतनी बदल गई है कि थोड़ा सा दिमाग रखने वाला व्यक्ति इस बात की कल्पना भी नहीं कर सकता कि आज के दिन इतनी बड़ी लड़ाई होगी."

झड़प

इमेज कॉपीरइट Getty

जी-7 बैठक से पहले हज़ारों की संख्या में प्रदर्शनकारियों ने क़रीबी शहर गारमिश पार्टनकिर्शेन की तरफ़ कूच किया और उनकी पुलिस से झड़प भी हुई.

इससे कई प्रदर्शनकारी घायल हो गए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया.

जी-7 बैठक में जर्मनी की चांसलर एंगेला मर्केल बवेरियन आल्प्स में अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन, फ़्रांस के राष्ट्रपति फ़्रांसुआ ओलांद, कनाडा के प्रधानमंत्री स्टीफ़न हार्पर और इटली के प्रधानमंत्री मेटिओ रेंज़ी की मेज़बानी करेंगी.

इस दौरान सुरक्षा व्यवस्था के लिए 17 हज़ार पुलिस अधिकारियों को तैनात किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार