रामदेव के नक्शेकदम पर पाकिस्तानी योगी हैदर

  • 15 जून 2015
योगी शमशाद हैदर इमेज कॉपीरइट Yogi Haider
Image caption शमशाद हैदर कहते हैं कि उनकी योग क्लास में दाढ़ी-टोपी वाले भी आते हैं.

भारत, नेपाल और तिबब्त में योग सीख चुके, योगी शमशाद हैदर पाकिस्तान में योग के प्रचार-प्रसार में जुटे हैं.

पाकिस्तान के पंजाब सूबे के एक छोटे से गाँव के मध्यमवर्गीय परिवार से आने वाले हैदर को इस सफ़र में अपने परिवार का भरपूर साथ मिला है.

इमेज कॉपीरइट Yogi Haider

इस्लामाबाद और लाहौर में योग सिखाने वाले योगी हैदर महाराष्ट्र के गुरु निकम और गुरु गोयनका से प्रभावित हैं. उन्होंने लंबा वक़्त भारत के हरिद्वार में भी बिताया है.

इमेज कॉपीरइट Yogi Haider

उनकी पत्नी शुमैला साँस की मरीज़ थीं और उन्हीं की योग कक्षाओं में आती थीं. ठीक होने पर क़रीब दो साल पहले उन्होंने योगी हैदर से शादी कर ली. अब वे भी योग सिखाती हैं.

तक़रीबन सात साल पहले लाहौर के एक मनोचिकित्सक उनके पहले शिष्य बने, इसके बाद उनके छात्रों की संख्या बढ़ती गई, जो अब हज़ारों में है.

इमेज कॉपीरइट Yogi Haider

इस्लामाबाद और लाहौर के पार्कों में दाढ़ी-टोपी वाले लोगों का योगासन करते दिखना आम बात है, उनके ज़्यादातर शिष्य संभ्रांत तबके से आते हैं.

योगी हैदर कहते हैं, "योग के प्रसार के लिए मैं पब्लिक पार्कों में फ़्री क्लासेज़ चलाता हूँ. लेकिन जो लोग व्यक्तिगत कक्षाएँ लेते हैं, वे फ़ीस चुकाते हैं."

इमेज कॉपीरइट Yogi Haider

योगी हैदर मानते हैं कि पाकिस्तान जैसे देश में योग सिखाना एक मुश्किल काम है.

पिछले साल उनके एक दोस्त के योग सेंटर में आग लगा दी गई थी लेकिन वे इससे डरे नहीं. वे कहते हैं, "जब हम नेक राह पर चल रहे होते हैं तो ख़तरों की परवाह नहीं करते."

इमेज कॉपीरइट Yogi Haider

योगी हैदर कहते हैं जिस तरह रामदेव ने भारत में योग को घर-घर पहुँचाया है, ठीक वैसे ही मैं भी योग को पाकिस्तान में घर-घर तक पहुँचाना चाहता हूँ.

योग को सबके बीच स्वीकार्य बनाने के लिए उन्होंने राह निकाली है, वे योग को उसके फ़ायदों तक ही केंद्रित रखते हैं और इसे किसी ख़ास धार्मिक पहचान से दूर रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट Yogi Haider

भारत में योग को लेकर जो विवाद छिड़ा है उस पर योगी हैदर कहते हैं, "इस्लाम कहता है कि इल्म जहाँ से मिले ले लो. हिंदुस्तान के आलिमों का विरोध राजनीतिक है क्योंकि हिंदुस्तानी सरकार का एजेंडा अल्पसंख्यकों के लिए ठीक नहीं है. वे योग पर हिंदुओं की मुहर लगाते हैं जो ग़लत है. बावजूद इसके मुसलमानों को योग का विरोध नहीं करना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट Yogi Haider

हैदर याद दिलाते हैं कि योग के पुरातन गुरु पतंजलि का जन्म मुल्तान में हुआ था जो अब पाकिस्तान में है.

योगी हैदर कुछ आसनों के दौरान अपने शिष्यों से 'अल्लाह हू...अल्लाह हू' की आवाज़ लगवाते हैं और इसे सूफ़ी परंपरा से जोड़ देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Yogi Haider
Image caption योगी शमशाद हैदर भारत के हरिद्वार में.

योग की 'पूरब की कला' बताने वाले हैदर कहते हैं, "अल्लाह हू की आवाज़ लगाते हुए लोगों को लगता है कि वे सूफ़ियों की तरह अल्लाह को याद कर रहे हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार