जर्मनविंग्स विमान हादसे की फिर से जांच

  • 12 जून 2015
इमेज कॉपीरइट AFP

फ्रांसीसी जांचकर्ताओं ने कहा है कि वो जर्मनविंग्स विमान दुर्घटना की जांच फिर से करने जा रहे हैं. इस हादसे में 150 लोगों की मौत हो गई थी.

ये जांच पायलट आंद्रेएस लूबिट्ज़ के कुछ डॉक्टरों के उस बयान के बाद शुरू की जा रही है जिसमें चिकित्सकों ने कहा कि उन्हें लगता था आंद्रेएस लूबिट्ज़ विमान उड़ाने के लिए फिट नहीं थे.

दुर्घटना के बाद ये बात सामने आई थी पायलट ने विमान को जानबूझकर पहाड़ से टकरा दिया था.

हत्या का मामला?

अभियोग पक्ष के वकील ब्राइस राबिन ने कहा है कि एक प्राथमिक जांच की शुरुआत की जा रही है ताकि ये देखा जा सके कि क्या इस मामले में हत्या का मुक़दमा दाख़िल किया जा सकता है.

राबिन का कहना था कि पायलट आंद्रेएस लूबिट्ज़ ने दुर्घटना के पहले एक महीने के दौरान सात डॉक्टरों से अपना चेकअप करवाया था. इनमें एक जनरल फिज़िशियन थे, जबकि दो मनोचिकित्सक और तीन आंखों की बीमारी के विशेषज्ञ.

इमेज कॉपीरइट AFP

जांचकर्ता का कहना था कि पायलट लूबिट्ज़ आँखों की रोशनी के कारण काफ़ी परेशान थे. उन्हें लगता था कि उनकी आंखों के सामने तेज़ रोशनी चमकती है और उन्हें कुछ चीज़ें अंधेरे में डूबी हुई दिखती थीं.

दुर्घटना के एक हफ़्ते पहले उन्होंने एक डॉक्टर से कहा कि वो रात में सिर्फ़ दो घंटे सो पाते हैं और उन्हें ऐसा लग रहा है कि वो अंधे हो रहे हैं. लेकिन डॉक्टरों को ऐसा नहीं लगा कि उनकी आँखों की रोशनी जा रही थी और उनकी समझ में आया इसकी वजह कोई मनोवैज्ञानिक दबाव हो सकता है.

डाक्टर-मरीज़ की बात गुप्त

हालांकि किसी भी डॉक्टर ने पायलट की कंपनी को इन सब बातों के बारे में नहीं बताया क्योंकि वो प्राइवेसी क़ानून का उलंघन नहीं कर सकते थे.

जर्मनी के क़ानून के मुताबिक़ डॉक्टर और मरीज़ के बीच की बात को किसी तीसरे व्यक्ति को नहीं बताई जा सकती.

अभियोग पक्ष के वकील ब्राइस राबिन ने डॉक्टरों से पायलट आंद्रेएस लूबिट्ज़ की बातचीत का संक्षिप्त विवरण दिया.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption पायलट आंद्रेएस लूबिट्ज़ के डॉक्टरों के बयान के बाद फ्रांस सरकार ने दोबारा जाँच का फ़ैसला लिया.

लूबिट्ज़ ने बताया कि उसने उन लोगों पर ये प्रभाव छोड़ा कि वो मनोवैज्ञानिक तौर पर अस्थिर है और उनमें से कुछ लोगों ने जब पायलट की बात सुनी तो उन्हें लगा कि वो विमान उड़ाने के क़ाबिल नहीं है.

दुर्भाग्य से इन बातों की सूचना किसी को नहीं दी गई क्योंकि ये मेडिकल सिक्रेसी क़ानून के ख़िलाफ़ होता. इस मामले में 2011 के एक नियम पर ध्यान देने की ज़रूरत है जो यूरोप में लागू होता है.

राबिन का कहना था कि इस बात में कोई शक नहीं रह गया है कि पायलट आंद्रेएस लूबिट्ज़ ने जानबूझकर विमान को फ्रांस के आल्पस पहाड़ से टकरा दिया था.

हालांकि अभी ये साफ़ नहीं हो पा रहा है कि हत्या का मामला किसके ख़िलाफ़ दाख़िल किया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार