यहाँ युवा पीढ़ी अपना घर नहीं खरीद सकती...

इमेज कॉपीरइट Ron Danieli

सिडनी में रहने वाले 36 वर्षीय पॉल व्हालेन फ़ाइनेन्शियल इंडस्ट्री में अच्छी खासी नौकरी करते हैं. प्रतीत होता है कि वो आसानी से अपना पहला घर ख़रीदने की स्थिति में होंगे.

उनके पास कुछ पैसे भी जमा हैं पर वो अपना पहला घर नहीं ख़रीद सकते. ऑस्ट्रेलिया में आम मकान की कीमत औसत सालाना वेतन से 10 गुना तक पहुंच गई है. एक्सपर्ट मानते हैं कि ऐसी स्थिति में युवा पीढ़ी के लिए अपना पहला घर खरीदना बहुत मुश्किल हो जाता है.

सिडनी जैसे शहर की स्थिति और भी गंभीर है. मकानों की कीमत सालाना 14 फ़ीसदी की दर से बढ़ रही है और 2009 से लेकर अब तक रियल एस्टेट के दाम में 60 फ़ीसदी की बढ़ोत्तरी हो चुकी है.

इमेज कॉपीरइट Getty

पॉल कहते हैं, "जब भी आप अख़बार देखते हैं, घरों के दाम बढ़ चुके होते हैं. फिर आप अपनी आमदनी की ओर देखते हैं जो उस रफ्तार से नहीं बढ़ रही है."

पिछले कुछ महीनों से पॉल अपनी पत्नी और नवजात बच्चे के लिए घर खरीदने की जद्दोजहद में जुटे हैं. वो कहते हैं, "हमारी जैसी स्थिति है, हमें अपना मकान खरीदने के लिए माता-पिता की मदद लेनी पड़ेगी."

सिडनी सबसे महंगी जगह

सबसे कम ब्याज दर, निवेशकों में बढ़ती मांग और आपूर्ति में कमी के चलते ऑस्ट्रेलिया का रियल एस्टेट बाज़ार तेज़ी से बढ़ा है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया में प्रॉपर्टी दुनिया की सबसे महंगी प्रॉपर्टीज़ में है.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ़) के मुताबिक सिडनी में एक औसत घर की कीमत करीब 6.89 लाख डॉलर है, तो मेलबर्न में यह 4.7 लाख डॉलर से ज्यादा है.

ऑस्ट्रेलिया की केंद्रीय सरकार तक ने इसे गंभीर मुद्दा मानते हुए, इस पर विचार करते हुए एक स्पेशल टॉस्क फोर्स का गठन किया है. वो विभिन्न सरकारी प्राधिकरणों के साथ मिलकर सस्ते आवास की आपूर्ति की व्यवस्था कराने के प्रयास करेगा.

न्यू साउथ वेल्स के सांसद एलेक्स ग्रीनीच कहते हैं, "ऑस्ट्रेलिया और ख़ासकर सिडनी में घर खरीदना अब बस के बाहर की बात हो चुकी है."

स्थिति कितनी विकट है, इसका अंदाजा सिडनी में बीते 25 सालों से रियल एस्टेट में काम कर रहे रॉन डेनिएली की बातों से होता है.

बुलबुला तो नहीं...

डेनिएली के पास सबसे सस्ती जगह हैं 82,242 डॉलर की. पार्किंग स्पेस जितनी जगह और रहने लायक भी नहीं. अपार्टमेंट की कीमत तो 5.5 लाख डॉलर से शुरू होती है.

इमेज कॉपीरइट Alamy

वैसे डेनिएली पहली संपत्ति खरीद रहे युवा ग्राहकों को इंतज़ार करने के लिए कह रहे हैं. उनका मानना है कि मौजूदा स्थिति एक बुलबुले की तरह है जो जल्दी ही फूट जाएगा. वो कहते हैं, "कीमतों में 10 से 15 फ़ीसदी की गिरावट होगी."

ऑस्ट्रेलियाई लोगों के दिमाग में रियल एस्टेट को लेकर चाहत सनक का रूप लेने लगी है. पॉल व्हालेन कहते हैं, "हर कोई अपने घर पर, या सपनों के घर के बारे में ऐसे मुग्ध मिलेगा और उसकी कीमत के बारे में ख़ूब चर्चा करेगा."

निवेश पर ध्यान

यही वजह है कि हर युवा ऑस्ट्रेलियाई जो कुछ भी संभव हो उसे खरीदना चाहता है. भले ही वो निवेश के लिए ही हो. हालांकि पुराने अनुभव बताते हैं कि ये जोखिम भरा हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

अमरीका का उदाहरण पहले ही सामने है, जहां रियल एस्टेट की अनुमानित कीमतों के चलते निवेश करने वाले बाद में भारी कर्जे में फंस गए हैं.

ऑस्ट्रेलिया के प्रापर्टी बाज़ार पर नजर रखने वाली कंपनी आरपी डाटा के रिसर्च निदेशक टिम लॉलेस कहते हैं, "ये ट्रेंड देखने को मिला है कि पहली बार मकान खरीदने वाले निवेश के लिहाज से खरीद रहे हैं, खुद के रहने के लिए नहीं. ऐसा इसलिए हो रहा है कि क्योंकि लोग उस मकान को खरीदने की स्थिति में नहीं हैं, जिसमें वह रहना चाहते हैं."

जमीन जायदाद की बढ़ती कीमतों के चलते लोगों की उम्मीदें भी बदली हैं. रियल एस्टेट इंस्टीच्यूट ऑफ़ ऑस्ट्रेलिया के प्रेसीडेंट नेविल सैंडर्स कहते हैं, "पहली बार मकान खरीद रहे लोग महंगे इलाकों में घर नहीं खरीद रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट Getty

वैसे जो लोग परंपरागत घर, बगीचे के साथ खरीदना चाहते हैं, उनके लिए शहर के बाहरी हिस्सों में ही विकल्प उपलब्ध हैं. सैंडर्स कहते हैं, "शहर से बाहर निकलने पर बहुत सारे मकान ऐसे हैं जो करीब 3.91 लाख डॉलर पर उपलब्ध हैं."

ऑस्ट्रेलिया में बढ़ती आबादी

यही वजह है कि सिडनी के पश्चिमी हिस्से में विकसित हो रहा इलाका, पहला मकान खरीद रहे लोगों के बीच लोकप्रिय है.

कई लोग बढ़ती हुई कीमतों को बुलबुला भी मान रहे हैं, लेकिन देश के रियल एस्टेट एजेंट्स की संस्था के सैंडर्स बताते हैं, "ये महज़ बुलबुला नहीं है क्योंकि आपूर्ति में कमी के चलते कीमतें बढ़ी हैं. बुलबुला एक तरीके से संभव हो सकता है जब अचानक से आपूर्ति काफ़ी ज्यादा बढ़ जाए या फिर अर्थव्यवस्था में गिरावट आ जाए, मुझे ऐसा नहीं दिख रहा है."

इमेज कॉपीरइट Ron Danieli

ऑस्ट्रेलिया में आबादी भी तेजी से बढ़ रही है. बाहर से आने वाले लोगों की संख्या भी बढ़ रही है. हर 20 सेकेंड में एक आदमी ऑस्ट्रेलिया की आबादी में जुड़ रहा है. 2030 तक ऑस्ट्रेलिया की आबादी 3.5 करोड़ होने की उम्मीद है.

20 साल की इलिजा सिडनी में एडवरटाइजिंग की छात्रा हैं. वे बताती हैं, "हर कोई सिडनी आना चाहता है. हर किसी को समुद्र प्यारा लगता है. यहां मौसम अच्छा लगता है. इसलिए कीमतें तो बढ़ेंगी ही."

लेकिन इलिजा ने अपने घर का सपना छोड़ा नहीं है, वे कहती हैं इससे स्थायित्व का बोध होता है.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें, जो बीबीसी कैपिटल पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार