'रिश्वत हो सकता है फ़ीफ़ा को दिया पैसा'

टोक्यो सेक्सवेल और सेप ब्लेटर इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption 2009 की इस फ़ोटो में टोक्यो सेक्सवेल और सेप ब्लेटर साथ दिख रहे हैं.

दक्षिण अफ़्रीका की फ़ुटबॉल विश्वकप मेजबानी हासिल करने वाली टीम के एक अहम सदस्य ने सरकार के बयान से ख़ुद को अलग कर लिया है. उन्होंने कहा है कि उन्हें लगता है कि एफ़बीआई का ये दावा सही हो सकता है कि एक करोड़ डॉलर की रिश्वत दी गई.

टोक्यो सेक्सवेल ने बीबीसी से कहा है कि ये आरोप चिंताजनक हैं.

दक्षिण अफ़्रीका की सरकार का कहना है कि उसने एक कोरड़ डॉलर तत्कालीन फ़ीफ़ा उपाध्यक्ष जैक वॉर्नर के नियंत्रण वाले खातों में कैरिबियाई द्वीप में फ़ुटबॉल को बढ़ावा देने के लिए दिए थे.

एक अधिकारी ने कहा कि ये पैसा फ़ीफ़ा ने ट्रांस्फ़र किया था और बिना शर्तों के दिया गया था.

दान पर सवाल

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सेक्सवेल का कहना है कि एफ़बीआई के रिश्व दिए जाने के दावों को झुठलाना मुश्किल है.

रोबेन आइलैंड के पूर्व राजनीतिक क़ैदी, सरकार में मंत्री और विश्व कप आयोजन समिति और मेज़बानी हासिल करने वाली टीमों के सदस्य रहे सेक्सवेल ने अब उन पैसों के दान के रूप में दिए जाने के दावों पर सवाल खड़े किए हैं.

सेक्सवेल ने पूछा, "दस्तावेज़ कहां हैं, इनवाइस कहां हैं, बजट कहां हैं और ज़मीन पर प्रोजेक्ट कहां हैं?"

उन्होंने कहा, "अगर यह सब नहीं हैं तो फिर आप एफ़बीआई के दावों को ही सही मानेंगे."

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption आरोप हैं कि तत्कालीन फ़ीफ़ा उपाध्यक्ष जैक वार्नर ने अपने नियंत्रण वाले बैंक खाते में आए पैसों का निजी इस्तेमाल किया था.

नहीं था वार्नर पर शक़

टोक्यो सेक्सवेल ने कहा, "परोपकारिता अच्छी है. सवाल उठेगा कि आपकी नेक नियती को अमली जामा पहनाने के लिए क्या किया गया?"

हालांकि अफ़्रीकी नेशनल कांग्रेस के दिग्गज नेता सेक्सवेल का यह भी कहना है कि उन्हें न ही रिश्वत दिए जाने की कोई जानकारी है और न ही इसमें उनकी कोई भूमिका है.

उन्होंने किसी पर उंगली उठाने से इंकार कर दिया और इस बात पर ज़ोर दिया कि उन्हें दक्षिण अफ़्रीका में अन्य लोगों के पास उस समय वार्नर के इरादों पर शक़ करने का कोई कारण नहीं था.

दक्षिण अफ़्रीका में विपक्षी डेमोक्रेटिक गठबंधन ने विश्व कप की मेजबानी हासिल करने वाली टीम में शामिल लोगों को संसद के प्रति जवाबदेह तय करने की मांग की है लेकिन एएनसी ने ख़िलाफ़ वोट देकर इस प्रस्ताव को रोक दिया.

दक्षिण अफ़्रीका के खेल मंत्रालय ने सेक्सवेल के बयान पर प्रतिक्रिया नहीं दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार