भारत-पाक तनाव घटाने के लिए आया अमरीका

  • 17 जून 2015
नवाज़ और मोदी

भारत और पाकिस्तान के दरम्यान बढ़ते तनाव को कम करने के लिए अमरीका ने दोनों ही देशों के साथ उच्च-स्तरीय कोशिशें तेज़ कर दी हैं.

अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ से फ़ोन पर बात करके भारत-पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव पर चिंता ज़ाहिर की है.

वहीं विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने बीबीसी हिंदी को बताया है कि वो भारत के साथ भी उच्च स्तर पर संपर्क में है जिससे तनाव को कम किया जा सके.

'भूमिका अहम'

इमेज कॉपीरइट epa

केरी ने नवाज़ शरीफ़ को उसी दिन फ़ोन किया जिस दिन भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शरीफ़ को फ़ोन करके रमज़ान की शुरूआत की मुबारकबाद दी है.

केरी ने वॉशिंगटन में मीडिया से बात करते हुए कहा कि पूरे क्षेत्र की बेहतरी में भारत और पाकिस्तान दोनों की अहम भूमिका है.

उन्होंने कहा कि ये निहायत ज़रूरी है कि दोनों ही पक्षों की तरफ़ से जो बयानबाज़ी हो रही है और जिससे कुछ लोग अपना प्रभाव दिखाने की कोशिश में हैं, उसकी वजह से कोई ग़लत फ़ैसला न हो जाए.

'चिंता की बात'

जॉन केरी का कहना था, "ये हमारे लिए काफ़ी चिंता की बात है और इसकी वजह स्पष्ट है."

केरी ने कहा कि नवाज़ शरीफ़ ने बिल्कुल सीधी और दो टूक बात की और वो इससे ज़्यादा स्पष्ट नहीं हो सकते थे और कुछ ही देर पहले उनकी भारत के प्रधानमंत्री से बात हुई थी.

भारत और पाकिस्तान दोनों ही परमाणु हथियारों से लैस हैं और अमरीका की कोशिश रही है कि तनाव को काबू में रखा जाए जिससे मामला हद से बाहर न निकल जाए.

जॉन केरी ने कहा है कि कोशिश इस बात की हो रही है कि सभी पक्ष साथ मिलकर आने वाले दिनों और हफ़्तों में तनाव कम करने की कोशिश करें.

पिछले दिनों भारत और पाकिस्तान दोनों ही तरफ़ से बयानबाज़ी में काफ़ी तीखापन आया है और परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की तरफ़ भी इशारे किए गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार