करोड़ों रुपए में बिकीं हिटलर की पेंटिंग

  • 23 जून 2015
इमेज कॉपीरइट Getty

जर्मनी में जब एडोल्फ़ हिटलर की बनाई हुई कलाकृतियों की नीलामी की गई तो वे तकरीबन 4000,000 यूरो (लगभग 2 करोड़ 87 लाख रुपए) में बिकी.

इनमें से जो पेंटिंग सबसे ऊंचे दाम में बिकी वो बवारिया के एक किले की पेंटिंग है.

बवारिया के न्यूसच्वेनस्टिन कॉसल की इस पेंटिंग को चीन के एक व्यक्ति ने 1 लाख यूरो ( लगभग 71 लाख रुपए ) में खरीदा.

यह नीलामी जर्मनी के न्यूरेम्बर्ग में नीलामी संस्था वील्डर की ओर से की गई थी.

न्यूरेम्बर्ग में हुई नीलामी में हिटलर के हस्ताक्षर वाली एक दूसरी तस्वीर 72,000 यूरो ( करीब 52 लाख रुपए) में बिकी.

पिछले साल, इसी नीलामी घर ने 1914 में म्यूनिख हॉल की हिटलर की बनाई पेंटिंग क़रीब 99 लाख 32 हज़ार रुपये में बेची थी.

कला संस्था में प्रवेश नहीं मिला

वील्डर के मुताबिक बोली लगाने वालों में ब्राज़ील, संयुक्त अरब अमीरात, फ्रांस और जर्मनी के निजी निवेशक शामिल रहे.

हालांकि हिटलर को एक औसत दर्जे का कलाकार माना जाता है लेकिन जब भी उनकी कलाकृतियों की नीलामी हुई है वो ऊंची कीमतों पर बिकी हैं.

पेंटर के रूप में हिटलर के बारे में एक रोचक तथ्य सामने आया है. वो ये कि उन्होंने 20 वीं सदी की शुरुआत में वियना कला अकादमी में प्रवेश की दो बार कोशिश की थी.

और दोनों ही बार उनकी कोशिशों को खारिज कर दिया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार