ग्रीस को क़र्ज़ वापसी में 'और राहत नहीं'

  • 27 जून 2015
eurozone_finance_ministers इमेज कॉपीरइट AP

यूरोज़ोन के वित्त मंत्रियों ने आर्थिक राहत कार्यक्रम को 30 जून से आगे बढ़ाने का ग्रीस का अनुरोध ठुकरा दिया है.

30 जून तक आईएमएफ़ का कर्ज़ चुकाने के लिए ग्रीस को 1.5 अरब यूरो देने हैं.

अंतरराष्ट्रीय कर्ज़दाता चाहते हैं कि ग्रीस पेंशनों में कटौती करे और टैक्स दरें बढ़ाए.

एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में यूरोग्रुप के चेयरमैन येरून डाइसलब्लूम ने कहा कि नए राहत कार्यक्रम पर शुक्रवार को देरी तक बातचीत चल रही थी तभी ग्रीस ने अचानक जनमत संग्रह का एलान कर दिया.

डाइसलब्लूम ने कहा कि ऐसा कर के ग्रीस ने बातचीत की प्रक्रिया को तोड़ दिया.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption ग्रीस को यूरोज़ोन में रखने की मांग करते प्रदर्शनकारी.

उनका कहना है कि यूरोज़ोन के देशों के वित्त मंत्री बदले हालात की समीक्षा करने के लिए फिर मिलेंगे.

ग्रीस में समझौते की शर्तों पर जनमत संग्रह पांच जुलाई को होना है. प्रधानमंत्री एलेक्सिस त्सिप्रास ने इसका एलान किया था.

असर

इमेज कॉपीरइट AFP

यदि ग्रीस अपना क़र्ज़ नहीं चुका पाता है तो वह यूरोज़ोन से बाहर हो सकता है जिसका बाक़ी यूरोप और विश्व की अर्थव्यवस्था पर असर हो सकता है.

ग्रीस पिछले छह सालों से मंदी की मार झेल रहा है. इस साल जनवरी में चुनाव जीतने के बाद एलेक्सिस त्सिप्रास की सीरिज़ा पार्टी ने ख़र्च में बेहद सख़्त कटौती को कम करने का वादा किया था.

सीरिज़ा पार्टी का कहना है कि राहत पैकेज की कठोर शर्तों ने ग्रीस को और ग़रीब कर दिया है और बेरोज़गारी बढ़ रही है. ग्रीस में इस समय बीस प्रतिशत बेरोज़गारी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार