'आपात स्थिति के लिए तैयार नहीं डब्लूएचओ'

  • 7 जुलाई 2015
इमेज कॉपीरइट AP

एक स्वतंत्र एजेंसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के पास ‘न ही वो क्षमता है और न कामकाज का वो ढंग’ कि वो वैश्विक स्तर पर आकस्मिक स्थितियों से निबट सकें.

ये रिपोर्ट इबोला वायरस पर तैयार की गई है.

डेम बारबरा का कहना है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन इस ख़तरनाक बीमारी से लड़ने में नाकाम रहा.

इबोला से विश्व भर में अबतक 11,000 लोगों की मौत हो चुकी है. मारे जानेवालों में अधिकतर पश्चिमी अफ़्रीका के थे.

बारबारा पहले ब्रितानी चैरिटी संस्था ऑक्सफ़ैम की प्रमुख थीं.

'व्यवस्था की भी नाकामी'

उनका कहना था कि विश्व स्वास्थ्य संगठन को इबोला के मामले में पूरी तरह से ज़िम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

उन्होंने कहा कि एक तरह से पूरी व्यवस्था दूरदर्शिता का प्रदर्शन नहीं कर सकी.

ये रिपोर्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन ने तैयार करवाई है.

संगठन ने व्यवस्था में सुधारों के लिए योजना तैयार की है.

संस्था ने ये भी स्वीकार किया है कि उसे इबोला की रोकथाम के लिए क़दम उठाने में थोड़ा वक़्त लगा.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस मामले में अगस्त 2014 में अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्वास्थ्य चेतावनी जारी की थी लेकिन तब तक 1,000 लोगों की मौत हो चुकी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार