भारत और पाकिस्तान बने एससीओ के सदस्य

एससी में नेता इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत और पाकिस्तान को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की पूर्ण सदस्यता मिल गई है.

रूस के उफ़ा में चल रहे एससीओ के सालाना सम्मेलन में दोनों देशों को पूर्ण सदस्य का दर्जा देने का ऐलान किया गया.

सम्मेलन में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ भी हिस्सा ले रहे हैं.

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए भारत और पाकिस्तान की सदस्यता मंज़ूर करने की घोषणा की.

पढ़ें: क्या है शंघाई सहयोग संगठन

मोदी ने पाकिस्तान को दी बधाई

इमेज कॉपीरइट MEAIndia

पुतिन ने कहा कि बेलारूस को अफ़ग़ानिस्तान, ईरान और मंगोलिया की तरह पर्यवेक्षक का दर्जा दिया गया है.

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान को एससीओ में शामिल होने पर बधाई दी.

सम्मेलन में भाषण देते हुए उन्होंने कहा, “एससीओ हमारे विज़न का अहम हिस्सा है. मैं आपको यकीन दिलाता हूँ कि भारत एससीओ को पूरा सहयोग करेगा.”

इमेज कॉपीरइट AFP

जून 2001 में चीन, रूस और चार मध्य एशियाई देशों कज़ाकस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान और उज़बेकिस्तान के नेताओं ने शंघाई सहयोग संगठन शुरू किया और नस्लीय और धार्मिक चरमपंथ से निबटने और व्यापार और निवेश को बढ़ाने के लिए समझौता किया.

1996 में गठित शंघाई फ़ाइव के साथ उज़बेकिस्तान के जुड़ जाने के बाद इस समूह को शंघाई सहयोग संगठन कहा गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार