स्रेब्रेनित्सा नरसंहार बरसी: प्रधानमंत्री पर पथराव

  • 11 जुलाई 2015
इमेज कॉपीरइट EPA

बोस्निया के स्रेब्रेनित्सा शहर में बने स्मारक स्थल पर लोगों ने बीस साल पहले सर्ब सैनिकों के हमले में मारे गए लोगों को याद किया.

स्मारक स्थल पर पहुंचने से पहले सर्बिया के प्रधानमंत्री अलेक्सेंडर वुचिच ने एक बयान जारी करके कहा कि इसे नरसंहार न कहा जाए. हालांकि उन्होंने इस घटना को भीषण अपराध क़रार दिया.

इसके बाद वहां मौजूद लोगों ने उन पर पथराव किया, बोतलें फेंकीं और अपशब्द भी कहे.

लेकिन इस मौक़े पर पहुंचे पूर्व यूगोस्लाविया के लिए अंतरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायाधिकरण के मुख्य अभियोजक सर्ज ब्रामेर्त्ज़ का कहना था कि उस समय जो कुछ भी हुआ उसे निश्चित तौर पर नरसंहार ही कहा जाना चाहिए.

1995 में बोस्निया के सर्ब सैनिकों ने लगभग 8,000 मुस्लिम पुरुषों और लड़कों की हत्या कर दी थी. यह दूसरे विश्व युद्ध के बाद यूरोप में सबसे बड़ा जनसंहार था.

''नरसंहार ही है''

इमेज कॉपीरइट Getty

ब्रामेर्त्ज़ ने कहा, ''स्रेब्रेनित्सा नरसंहार को नरसंहार न कहना तथ्यात्मक रूप से ग़लत होगा और ये अंतरराष्ट्रीय स्तर के उच्च स्तरीय न्यायिक फ़ैसलों की अवमानना होगी.''

उन्होंने आगे कहा, ''साथ ही ये पीड़ितों का अपमान भी होगा. इसलिए हमें इस घटना को निश्चित तौर पर नरसंहार कहना चाहिए.''

क्लिंटन भी थे मौजूद

समारोह स्थल पर अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन भी मौजूद थे. उन्होंने वुचिच की मौजूदगी का उल्लेख किया.

उन्होंने कहा, ''ये बेहद अहम है कि सर्बिया के नेता यहां मौजूद हैं. उन्होंने लोगों का हाथ हिलाकर अभिवादन किया. यहां आने के लिए उनको धन्यवाद दीजिए और कहिए कि ये एक शुरुआत है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार