एमएच17 हादसे के मृतकों को श्रद्धांजलि

  • 17 जुलाई 2015
विमान का मलबा हटाते लोग इमेज कॉपीरइट AFP

यूक्रेन में एमएच17 विमान हादसे में मारे गए लोगों को ऑस्ट्रेलिया में श्रद्धांजलि दी गई.

मलेशियन एयरलाइंस के इस विमान के क्रैश होने से 298 लोग मारे गए थे, इनमें 39 ऑस्ट्रेलियाई नागरिक थे. मलेशियन एयरलाइंस का यह बोइंग विमान 17 जुलाई 2014 को एम्सटर्डम से कुआलालम्पुर जा रहा था.

कैनबरा में संसद भवन के बगीचे में एक पट्टी लगाई गई है, जिस पर मारे गए सभी लोगों के नाम लिखे हुए हैं.

रूस का इनकार

इमेज कॉपीरइट Reuters

पश्चिमी देशों का कहना है कि उनके पास इसके सबूत हैं कि रूस समर्थक विद्रोहियों ने रूस से ही मिला मिसाइल दागा था, जो इस विमान को लगा था.

रूस इससे इनकार करता रहा है. उसने यूक्रेन सरकार के सुरक्षा बलों को इसके लिए ज़िम्मेदार माना है.

ऑस्ट्रेलिया के सांसदों ने अपनी छुट्टियां बीच में ही रद्द कर दीं और राजधानी में हुए श्रद्धांजलि समारोह में शिरकत की.

दोषियों को सज़ा मिलेगी?

इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रधानमंत्री टोनी एबट ने कहा कि यह उनकी ज़िम्मेदारी है कि वे इस कांड के दोषियों को सज़ा दिलवाएं.

शुक्रवार को नीदरलैंड्स के न्यूवीजन शहर में घटना में मारे गए सभी लोगों के नाम उनके परिजन पढ़ कर सुनाएंगे.

रमज़ान का महीना होने की वज़ह से मलेशिया की राजधानी कुआलाम्पुर में 11 जुलाई को ही श्रद्धांजलि समारोह रखा गया था.

अंतरराष्ट्रीय पंचाट की मांग

इमेज कॉपीरइट Reuters

संदिग्धों को सज़ा दिलाने के लिए संयक्त राष्ट्र पंचाट बनाने की ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, नीदरलैंड्स, मलेशिया और यूक्रेन की मांग को रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन ने ख़ारिज कर दिया है.

रूसी सरकार ने एक बयान में कहा कि पुतिन ने इस मुद्दे पर अपनी स्थिति बता दी है. उनका मानना है कि अंतरराष्ट्रीय पंचाट के उलट नतीजे होंगे.

इस मामले की जांच नीदरलैंड्स कर रहा है. यूक्रेन, ऑस्ट्रेलिया और बेल्ज़ियम उसकी मदद कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)