अमरीका में 54 साल बाद लहरा क्यूबा का झंडा

cuba_embassy_america इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका में 54 साल बाद क्यूबा का दूतावास खुलने पर राजधानी वॉशिंगटन में एक औपचारिक समारोह का आयोजन किया गया.

क्यूबा के विदेश मंत्री ब्रूनो रॉद्रिगुएज़ की मौजूदगी में जब दूतावास की इमारत पर क्यूबा का झंडा फ़हराया गया तो फ़िदेल कास्त्रो के समर्थकों ने फ़िदेल-फ़िदेल के नारे लगाए.

अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी अगले महीने क्यूबा में ऐसे ही एक समारोह में हिस्सा लेंगे.

दिसंबर में अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो की ऐतिहासिक घोषणा के बाद स्थानीय समयानुसार आधी रात को कूटनीतिक संबंध फिर से कायम हो गए.

इमेज कॉपीरइट Reuters

फिदेल कास्त्रो की अगुआई में हुई क्रांति के दो साल बाद 1961 में दोनों देशों के कूटनीतिक संबंध टूट गए थे.

इसके बाद अमरीका ने क्यूबा से किसी तरह के लेन-देन पर प्रतिबंध लगा दिए थे.

सिर्फ़ शुरुआत

अमरीका और क्यूबा के बीच संबंध बहाल होने से क्यूबा के लोगों में ख़ास तौर से उत्साह है और कई अमरीकी निवेशक भी वहां संभावनाएं तलाश रहे हैं.

लेकिन फ़िलहाल अमरीकी नागरिकों और निवेशकों के क्यूबा जाने पर पाबंदी बनी हुई है.

क्यूबा पर अब भी कई अमरीकी प्रतिबंध लगे हुए हैं और उन्हें हटाने के लिए अमरीकी संसद की मंज़ूरी चाहिए होगी.

इमेज कॉपीरइट EPA

क्यूबा का कहना है कि व्यापार प्रतिबंधों से उसकी अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है और यदि ये नहीं हटाते तो ये रिश्ता निभाना कठिन ही होगा.

क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो के अनुसार फिलहाल सामान्य संबंधों की बहाली के लंबे और जटिल रास्ते पर चलने की ये केवल शुरुआत है.

'नाकाम नीति'

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अमरीका द्वारा क्यूबा को अलग-थलग रखने की दशकों से पुरानी नीति को बदलने का ऐलान करते हुए दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंधों की बहाली का ऐलान किया था.

ओबामा ने पिछले साल दिसंबर में ही 50 सालों से क्यूबा को अलग-थलग रखने की नीति को पीछे छोड़ उसके साथ सहयोग का नया दौर शुरू करने का ऐलान किया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

बराक ओबामा ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था, "बीते 50 साल बताते हैं कि अलग-थलग करने की नीति नाकाम साबित हुई है. अब समय आ गया है कि नीति बदली जाए."

उन्होंने कहा था, "हम दोंनों देशों के बीच यात्रा, व्यापार और सूचना को बढ़ावा देने के लिए भी काम कर रहे हैं. और दोनों देशों के बीच लोगों की आवाजाही को भी बढ़ावा दिया जाएगा. अमरीका अब आने वाले दिनों में हवाना में फिर से दूतावास भी खोलेगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार