तुर्की: मृतकों का सामूहिक अंतिम संस्कार

  • 22 जुलाई 2015
तुर्की सुरूच धमाके में मारे गए लोगों का अंतिम संस्कार इमेज कॉपीरइट AP

तुर्की के सुरूच शहर में हुए धमाके में मारे गए लोगों का सामूहिक अंतिम संस्कार किया गया.

इस मौक़े पर मृतकों के रिश्तेदार मौजूद रहे साथ ही बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी भी थे जो इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ नारे लगा रहे थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

तुर्की की राजधानी इस्तांबुल में भी प्रदर्शन हुए.

इमेज कॉपीरइट AP

प्रदर्शनकारी तुर्की सरकार के ख़िलाफ़ भी नारेबाज़ी कर रहे थे.

उनका आरोप है कि सरकार आईएस जेहादियों को क़ाबू में करने के लिए पर्याप्त क़दम नहीं उठा रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty

प्रदर्शनकारियों के मुताबिक़ सत्तारूढ़ जस्टिस एँड डेवलपमेंट पार्टी तुर्की में चरमपंथ को रोकने में नाकाम रही है.

कई पश्चिमी देशों का भी आरोप है कि तुर्की सरकार ने कई चरमपंथी गुटों को रोकने के लिए कुछ ख़ास नहीं किया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

हालांकि प्रधानमंत्री अहमद दावूतुलू ने इन आरोपों से इनकार किया है और कहा कि उनकी सरकार ने कभी भी चरमपंथ को बर्दाश्त नहीं किया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

बीबीसी मध्य पूर्व के संवाददाता जिम म्योर के मुताबिक़ अब सरकार, अपने पर पड़ रहे दबाव की वजह से आने वाले दिनों में चरमपंथियों के ख़िलाफ़ कड़े क़दम उठा सकती है.

हालांकि इससे चरमपंथियों के भी बदले की कार्रवाई करने की आशंका बढ़ जाएगी.

इमेज कॉपीरइट SGDA

सोमवार को सुरूच में हुए एक आत्मघाती धमाके में 32 एक्टिविस्ट की मौत हो गई थी.

हमले का शक़ इस्लामिक स्टेट पर जताया जा रहा है हालांकि आईएस ने इस पर अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

इमेज कॉपीरइट AP

सुरूच शहर, सीरिया की सीमा से लगा है और सीरियाई शहर कोबाने से भागकर कई शरणार्थी यहां रुके हुए हैं.

इस साल की शुरूआत में आईएस से ज़बरदस्त लड़ाई के बाद कुर्द फ़ौजों ने कोबाने पर वापस कब्ज़ा पा लिया था.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)