'बिन रोए' बदलेगी पाक फ़िल्मों की तक़दीर?

बिन रोए फिल्म का सीन इमेज कॉपीरइट MOMINA DURAID

हाल में रिलीज हुई फ़िल्म 'बिन रोए' से पाकिस्तानी फ़िल्म उद्योग को काफी उम्मीदें हैं.

पाकिस्तानी फ़िल्म इंडस्ट्री में कई लोग 'बिन रोए' को 'गेमचेंजर' बता रहे हैं.

इसे एक ऐसी फ़िल्म के तौर पर देखा जा रहा है जो पाकिस्तान फ़िल्म उद्योग को भारत की मशहूर फ़िल्म इंडस्ट्री 'बॉलीवुड' की छाया से बाहर निकाल सकती है.

बड़ा बजट

'बिन रोए' बॉलीवुड फ़िल्मों की ही तरह बड़े बजट वाली फ़िल्म है.

फ़िल्म का प्लॉट भी भारतीय फ़िल्मों में नज़र आने वाली कहानियों से ज़्यादा जुदा नहीं है.

इस फ़िल्म में पाकिस्तान के आला कलाकारों ने काम किया है.

'बिन रोए' में अहम भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री माहिरा खान कहती हैं, "मैं समझती हूं कि इसका रिलीज़ होना बड़ी उपलब्धि है. फ़िल्म उद्योग के लिए ये मील का पत्थर है क्योंकि ये पूरी दुनिया में रिलीज़ हो रही है."

वो कहती हैं," इसे लेकर बहुत दिलचस्पी बनी हुई है. मुझे इसका अंदाज़ा भी नहीं था. एक पाकिस्तानी फ़िल्म में इतनी दिलचस्पी लिया जाना अच्छी बात है."

पहली बार

ये पाकिस्तान की सबसे महंगी फ़िल्मों में से एक है. इसके निर्माताओं ने हर कोशिश की कि लोगों को इसके बारे में जानकारी हो सके.

ये पहली पाकिस्तानी फ़िल्म है, जिसका वेस्टर्न प्रीमियर हुआ. ये पूरी दुनिया में एक ही दिन रिलीज हुई.

फ़िल्म की सह निर्देशक और निर्माता मोमीना दुरैद कहती हैं,"हमारा ख्वाब और उम्मीद पाकिस्तान में फ़िल्म इंडस्ट्री को दोबारा खड़ा करने में योगदान देने का था. मुझे लगा कि मेरी तरह के निर्माताओं को कदम आगे बढ़ाना चाहिए."

गाने और रोमांस

इमेज कॉपीरइट MOMINA DURAID

अब तक 'वार' पाकिस्तान की सबसे कामयाब फ़िल्म है. ये फ़िल्म 2013 में रिलीज हुई थी.

पाकिस्तान में ज़्यादातर फ़िल्में आतंकवाद या फिर पश्चिम से संघर्ष की कहानियों पर बनती हैं.

'बिन रोए' इस लीक को तोड़ने वाली फ़िल्म है. ये एक रोमांटिक फ़िल्म हैं. जिसमें गाने हैं. डांस है.

अभिनेता रेहान शेख कहते हैं, "नब्बे के दशक में हम ज्यादा फ़िल्में नहीं बना रहे थे. अब तकनीक बदल गई है. लोग सिनेमा में डिजिटल तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं. पाकिस्तान में काफी फ़िल्में बन रही हैं. लोग तमाम विषयों पर फ़िल्में बना रहे हैं और इससे नई लहर उठी है."

पाकिस्तानी फ़िल्म उद्योग का मानना है कि अगर ये फ़िल्म हिट हुई तो ऐसी कई और फ़िल्में देखने को मिल सकती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार