'मुल्ला उमर की मौत पाकिस्तान में हुई'

मुल्ला उमर इमेज कॉपीरइट

अफ़ग़ानिस्तान सुरक्षा सेवा के प्रवक्ता अब्दुल हसीब सिद्दीक़ी ने बीबीसी से कहा है कि तालिबान नेता मुल्ला उमर की मौत पाकिस्तान के एक अस्पताल में हुई.

सिद्दीक़ी ने समाचार एजेंसी एपी से कहा है कि मुल्ला उमर की मौत कराची के एक अस्पताल में साल 2013 में हो गई थी.

पाकिस्तान सरकार और सुरक्षा एजेंसी ने इस मामले पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

इससे पहले अफ़ग़ानिस्तान की सरकार ने कहा था कि वो तालिबान प्रमुख की मौत की ख़बरों की जांच कर रही है.

तालिबान ने प्रशासन और ख़ूफ़िया ऐजेंसी के इस बारे में किए गए दावे पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

हालांकि एक प्रवक्ता ने बीबीसी से कहा कि इस बारे में तालिबान वक्तव्य जारी करेंगे.

पिछले कई महीनों से मुल्ला उमर के बारे में तमाम तरह की अटकलें लगाई जा रही थीं.

इसके साथ ही अफ़गा़न सरकार, तालिबान के साथ शांतिवार्ता की गंभीर कोशिशें कर रही थीं.

लेकिन अफ़ग़ान सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने पहली बार इसकी पुष्टि की है.

2001 से थे भूमिगत

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption तालिबान के लड़ाके

सोवियत सेनाओं के अफ़ग़ानिस्तान से हटने के बाद जो गृहयुद्ध शुरू हुआ उसमें मुल्ला उमर की अगुआई में तालिबान ने प्रतिद्वंदी मिलिशिया पर जीत हासिल की थी.

अल-क़ायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन से भी मुल्ला उमर की नज़दीकी थी.

इसलिए 9/11 हमले के बाद 2001 में अमरीकी नेतृत्व में अफ़ग़ानिस्तान पर हमले के दौरान मुल्ला उमर को भी निशाना बनाया गया.

तब से मुल्ला उमर भूमिगत हो गए थे. अमरीका ने उनके ऊपर एक करोड़ अमरीकी डॉलर यानी लगभग 60 करोड़ रूपए का इनाम रखा था.

पिछले कुछ सालों में तालिबान ने उनके नाम से अनेक संदेश जारी किए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार