इसराइल फ़लस्तीनी बच्चे के क़ातिलों को पकड़ेगा

  • 1 अगस्त 2015
फ़लस्तीनियों के घरों में आगजनी इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption पश्चिमी तट पह हुए आगजनी हमलों में एक 18 महीने के बच्चे की मौत हुई है.

इसराइल ने कहा है कि वो पश्चिमी तट पर आगजनी के हमले में फ़लस्तीनी बच्चे की जान लेने वालों को पकड़ कर रहेगा.

माना जा रहा है कि इस हमले के पीछे पश्चिमी तट में रहने वाले यहूदी हो सकते हैं.

प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने कहा, "इसराइल इस अपराध से लड़ने और इसे अंजाम देने वालों को न्याय के कटघरे में खड़ा करने के लिए प्रतिबद्ध है."

डूमा में हुए हमले में एक 18 महीने के बच्चे की मौत हो गई थी जबकि उसके माता-पिता और एक चार वर्षीय भाई गंभीर रूप से घायल हैं.

फ़लस्तीनी अधिकारियों का कहना है कि इसके लिए इसराइल पूरी तरह से ज़िम्मेदार है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption घर की दीवार पर हिब्रू में 'बदला' लिख दिया गया.

जिन दो घरों में आगजनी की गई उनमें से एक की दीवार पर हिब्रू भाषा में 'बदला' लिखा गया था. आगजनी में घर पूरी तरह से जल गए हैं.

नेतन्याहू ने कहा कि अली शाद दवाबशा की जान लेने वाला यह हमला 'हर रूप से आतंकी कार्रवाई है.'

नेतन्याहू और इसराइल के राष्ट्रपति ने इसराइल में इलाज करा रहे मारे गए बच्चे के भाई से अस्पताल में मुलाक़ात करने के लिए अलग-अलग दौरा किया.

नेतन्याहू ने फ़लस्तीनी नेता महमूद अब्बास से भी फ़ोन पर बात की और हमले की आलोचना की.

अमरीका ने भी इस हमले की आलोचना की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार