पाक: विरोध के बावजूद शफ़क़त को हुई फांसी

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र और मानवाधिकार संस्थाओं की अपील के बावजूद हत्या के दोषी शफ़क़त हुसैन को फांसी दे दी है.

शफ़क़त हुसैन को मंगलवार सुबह कराची जेल में फांसी दे दी गई.

उसे साल 2004 में एक बच्चे को अग़वा करने और उसकी हत्या करने का दोषी पाया गया था.

हुसैन के वकीलों का कहना है कि जुर्म के वक़्त उसकी उम्र 14 साल थी और पुलिस ने उससे जबरन ये इलज़ाम क़बूल करवाया था.

लेकिन प्रशासन का कहना था कि वो उस समय नाबालिग़ नहीं था. इससे पहले चार बार फांसी दिए जाने से एकदम पहले, मानवाधिकार संगठनों के दबाव के कारण सज़ा टाल दी गई थी.

परिवार से मुलाक़ात

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

उसे सोमवार को अपने परिवार से मिलने की इजाज़त दी गई.

पाकिस्तान में 2008 से फांसी देेने पर रोक लगा दी गई थी, लेकिन पिछले साल दिसंबर में पेशावर में स्कूल पर हुए हमले के बाद मौत की सज़ा पर से पाबंदी हटा ली गई है.

स्कूल पर तालिबान के हमले में बच्चों समेत 150 लोगों की मौत हो गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार