स्कूल में यौन उत्पीड़न, गिरफ़्तार प्रिंसिपल रिहा

  • 6 अगस्त 2015
बेंगलुरु में बलात्कार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन  (फाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट Subir Sarbabidya
Image caption बेंगलुरु में पिछले साल एक स्कूल में बच्ची के रेप के बाद व्यापक प्रदर्शन हुए थे.

कर्नाटक पुलिस ने पूर्वी बेंगलुरु के उस स्कूल के प्रिंसिपल और निदेशक को गिरफ़्तार किया है जिसमें तीन साल की एक बच्ची के साथ कथित यौन उत्पीड़न हुआ था.

अदालत ने बाद में स्कूल के प्रिंसिपल और निदेशक को ज़मानत पर रिहा कर दिया.

पुलिस ने स्कूल के गॉर्ड को भी छात्रा से यौन हिंसा करने के आरोप में गिरफ़्तार किया है.

बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर एनएस मेघारिक ने बीबीसी से कहा, "उन्हें पोक्सो (बच्चों से यौन अपराध रोकथाम क़ानून) के तहत ज़िम्मेदारी में लापरवाही के कारण गिरफ़्तार किया गया है."

गिरफ़्तारी की एक वजह यह भी है कि स्कूल प्रशासन ने गॉर्ड को नियुक्त करने से पहले उसकी पृष्ठभूमि की जांच नहीं की थी.

जांच अनिवार्य

इमेज कॉपीरइट Dibyangshu Sarkaria AFP
Image caption 2012 में दिल्ली में हुए बलात्कार के बाद सरकार ने कठोर नीतियां लागू की थीं.

बच्चों के साथ यौन हिंसा के कई मामले सामने आने के बाद स्कूल के सभी कर्मचारियों की पृष्ठभूमि की जांच अनिवार्य कर दी गई है.

तीन साल की स्कूली बच्ची ने कुछ दिन पहले अपने पेट में तेज़ दर्द की शिकायत की थी.

बच्ची ने कहा था कि स्कूल के एक अंकल ने उसे चोट पहुँचाई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)