आईएस ने 'इस्तेमाल किए रासायनिक हथियार'

कुर्द बल इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption उत्तरी इराक़ में कुर्द बल इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ लड़ रहे हैं.

अधिकारियों का कहना है कि 'इस्लामिक स्टेट' के चरमपंथियों पर उत्तरी इराक़ में कुर्द बलों के ख़िलाफ़ हमलों में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल करने का संदेह है.

जर्मन अधिकारियों का कहना है कि इसी महीने इरबिल में हुए एक हमले के बाद कुर्द सैनिकों को सांस लेने में दिक़्क़तें हुईं.

उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि हमले में किस रसायन का इस्तेमाल हुआ.

अमरीकी अधिकारियों ने स्थानीय मीडिया से कहा है कि हो सकता है कि 'मस्टर्ड एजेंट' इस्तेमाल किया गया हो.

इस्लामिक स्टेट पर इससे पहले कुर्द बलों के ख़िलाफ़ क्लोरीन गैस इस्तेमाल करने के आरोप लग चुके हैं.

अमरीकी अख़बार 'वॉल स्ट्रीट जरनल' के मुताबिक़ अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि संभव है, इस्लामिक स्टेट ने मस्टर्ड एजेंट पड़ोसी सीरिया से हासिल किया हो.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कई इलाक़ों में कुर्द बलों ने इस्लामिक स्टेट पर बढ़त हासिल की है.

'जुटा रहे हैं जानकारियां'

सीरियाई सरकार इससे पहले बता चुकी है कि उसने अपने सभी रासायनिक हथियार नष्ट कर दिए हैं.

इराक़ के पूर्व नेता सद्दाम हुसैन ने भी कुर्दों और ईरान के ख़िलाफ़ मस्टर्ड एजेंट जैसे रासायनिक हथियार इस्तेमाल किए थे.

अमरीकी रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने बीबीसी से कहा है कि उन्हें ऐसी रिपोर्टों के बारे में पता है और वो और जानकारियां जुटा रहे हैं.

कुर्द बलों के प्रशिक्षण में मदद कर रहे जर्मन रक्षा मंत्रालय का कहना है कि इराक़ी और अमरीकी विशेषज्ञों मौक़े पर जा रहे हैं

मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि हमले के बाद क़रीब 60 कुर्द सैनिकों को सांस लेने में दिक़्क़तें हुईं.

इससे पहले स्वयात्त कुर्द सरकार ने कहा था कि उसके पास इस बात के सबूत हैं कि इस्लामिक स्टेट ने क्लोरीन गैस इस्तेमाल की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार