हैकर्स ने सार्वजनिक किए 'बेवफ़ाओं' के नाम

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अपने जीवनसाथियों को धोखा देने वाले लोगों की डेटिंग वेबसाइट एशले मेडिसन से चुराया गया डेटा कथित तौर पर प्रकाशित हो गया है.

ख़बरों के मुताबिक़ इन आँकड़ों को कथित तौर पर डार्क वेबसाइट पर प्रकाशित किया गया है. डार्क वेबसाइट उन वेबसाइट्स को कहते हैं, जिस पर आसानी से जाया तो जा सकता है. लेकिन उनके सर्वर का पता लगा पाना बहुत कठिन होता है.

बीबीसी को भी अभी ये आँकड़े नहीं मिले हैं, इसलिए इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं की जा सकती.

हैकर्स की धमकी

हैकर्स ने इस डेटा को पिछले महीने चुराया था. उन्होंने धमकी दी थी कि अगर वेबसाइट से आँकड़ों को नहीं हटाया गया तो, वो इसे सार्वजनिक कर देंगे.

इमेज कॉपीरइट AFP

तकनीकी वेबसाइट वायर्ड ने कहा है कि 9.7 गीगाबाइट डेटा को पोस्ट किया गया था. हैकर्स ने जो आँकड़े सार्वजनिक किए गए हैं, उनमें सदस्यों के खाते और उनके क्रेडिट कार्ड के विवरण शामिल हैं.

'इंपैक्ट टीम' नाम के इन हैकर्स ने कहा है कि वो वेबसाइट के सदस्यों के वास्तविक नाम और पते चुरा पाने में कामयाब हुए हैं. इनमें उन लोगों के नाम भी शामिल हैं, जिन्होंने अपना अकाउंट डिलीट करवाने के लिए भुगतान किया था.

इस चुराए गए डेट का एक छोटा सा हिस्सा जुलाई में सार्वजनिक हो गया था.

दावा

एशले मेडिशन को चलाने वाली कनाडा की कंपनी एविड लाइफ मीडिया ने एक बयान में कहा है, ''अब यह पता चला है कि इस हमले के लिए ज़िम्मेदार व्याक्ति या लोगों ने और चुराया गया डेटा सार्वजनिक करने का दावा किया है.''

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption एशले मेडिशन ने कहा है कि वह क़ानून लागू करने वाली एजंसियों के साथ सहयोग कर रही है.

इस हैकिंग को अपराध बताते हुए कंपनी ने कहा है कि वो हैकर्स का पता लगाने के लिए क़ानून लागू करने वाली एजंसियों के साथ पूरी तरह सहयोग कर रही है.

बयान में कहा गया है, ''इस काम में शामिल अपराधी या अपराधियों ने ख़ुद को नैतिक न्यायाधीश, पंच और जल्लाद के रूप में नियुक्त किया है. वो समाज के सभी लोगों पर अपनी धारणा थोपते नज़र आ रहे हैं. हम चुप नहीं बैठेंगे और इन चोरों को दुनियाभर के लोगों पर अपनी विचारधारा नहीं थोपने देंगे.''

एशले मेडिसन ने कहा है कि उसकी वेबसाइट 50 देशों में देखी जाती है और उसके तीन करोड़ सात लाख लोग उपभोक्ता हैं. इनमें से क़रीब 10 लाख लोग ब्रिटेन में रहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार