फ्रांस के स्कूलों में शाकाहारी खाने की मुहिम

फ्रांस इमेज कॉपीरइट

फ्रांस के एक सांसद स्कूलों में शाकाहारी भोजन की शुरू करने की हिमायत कर रहे हैं ताकि जिन छात्रों के धर्म में पोर्क खाने की मनाही है, उन्हें सहूलियत हो सके.

ईव ज़ैगो ने Change.org वेबसाइट पर सभी स्कूलों में विकल्प के तौर पर शाकाहारी भोजन रखने को अनिवार्य बनाने की एक मुहिम शुरू की है.

अभी तक उनकी इस अपील को 73,000 लोगों का समर्थन मिल चुका है.

पिछले हफ्ते ही पूर्वी फ्रांस के एक स्कूल में पोर्क से बने व्यंजनों पर प्रतिबंध लगाने के बाद उन्होंने ये मुहिम शुरू की है.

इससे पहले Change.org पर ही शालों सु सोन शहर के मेयर ने अपना अभियान चलाया था जिसमें उन्होंने फ्रांस के धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को दोहराया था.

उनके इस अभियान को 2,750 लोगों का समर्थन मिला.

मेयर जील प्लात्रे ने लिखा, "फ्रांस के हर कोने से और हर पृष्ठभूमि, आस्था और व्यवसाय के फ्रांसीसी लोगों ने इस अभियान के समर्थन और प्रोत्साहन के लिए संदेश भेजे हैं."

धर्मनिरपेक्षता और पोर्क

इमेज कॉपीरइट

डीजॉं शहर की एक अदालत ने पिछले हफ़्ते ही मेयर प्लात्रे के पोर्क को प्रतिबंधित करने के अभियान के खिलाफ़ दायर एक याचिका को खारिज कर दिया था.

सांसद ज़ैगो ने कहा कि अगर उनकी इस अपील को 75,000 लोगों का समर्थन मिल गया तो वे इस सिलसिले में एक कानून बनाने का प्रस्ताव रखेंगे.

फ्रांस यूरोप में यहूदियों की सबसे ज़्यादा आबादी वाला देश भी है जबकि वहां रहने वाले मुसलानों की आबादी 50 लाख के आसपास है.

रेडिकल पार्टी के सांसद ज़ैगो ने कहा कि स्कूल में भोजन की समस्या का एक धर्मनिरपेक्ष हल निकाला जा सकता है.

बहरहाल, इन अपीलों से कुछ हलकों में धर्मनिरपेक्षता पर बहस भी शुरू हो गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार