'चीन की चिंता' में गिरे एशियाई बाज़ार

इमेज कॉपीरइट Getty

चीन की आर्थिक स्थिति को लेकर चिंताओं के मद्देनज़र भारत समेत एशिया के कई शेयर बाज़ारों में बड़ी गिरावट देखने को मिली है.

शंघाई के मुख्य शेयर सूचकांक में एक समय आठ प्रतिशत तक की गिरावट देखने को मिली है.

वहीं, टोक्यो और हांगकांग के बाज़ारों में भी बड़ी गिरावट दर्ज की गई है.

बंबई स्टॉक एक्सचेंज में भी एक समय 1100 अंक से ज़्यादा की गिरावट देखी गई वहीं निफ़्टी 8,000 से नीचे के स्तर पर चला गया.

निवेशकों में भरोसा नहीं

लगता है कि निवेशकों पर चीन की इस घोषणा का कोई ख़ास असर नहीं हुआ है कि वो अपने पेंशन फंड को शेयर बाजारों में निवेश करने की अनुमति देगा.

बाज़ार चीन की धीमी आर्थिक वृद्धि और चीन में फैक्ट्री उत्पादन गिरने को लेकर चिंतित है.

दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन को लेकर दुनिया भर के निवेशकों में चिंता बनी हुई है जिसके असर से भारत सहित वैश्विक बाजार में तेज़ बिकवाली देखी गई.

भारत में सेंसेक्स और निफ़्टी में तीन फ़ीसदी से अधिक गिरावट देखी जा रही है.

सुबह के कारोबार के दौरान शेयर बाज़ार में क़रीब तीन फ़ीसदी तक गिरावट देखी गईं.

सोमवार को शुरुआती कारोबार के दौरान भारतीय रुपये ने भी दो साल के निचले स्तर को छू लिया.

अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे का दाम साढ़े छह साल के सबसे निचले स्तर पर चला गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)