स्कूल पर चरमपंथी हमला, अलार्म बजेगा!

  • 24 अगस्त 2015
इमेज कॉपीरइट

नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में चरमपंथी हमले से निपटने के लिए स्कूल अलार्म लगा रहे हैं.

ये अलार्म हमला होने पर विद्यार्थियों और शिक्षकों को सावधान करेगा.

क्लासरूम में दीवारों पर लगी चमकती रोशनी और लाउडस्पीकर छात्रों, शिक्षकों, कर्मचारियों को चेतावनी देंगे कि वे क्लास रुम खाली कर दें, या स्कूल की इमारत के दूसरे हिस्से में चले जाएं.

नार्वे ब्रॉडकास्ट एनआरके की जानकारी के मुताबिक स्पीकर से क्लासरुम, स्कूल ग्राउंड और यहां तक कि टॉयलेट तक में बच्चों और शिक्षकों को चरमपंथी हमले के प्रति आगाह किया जा सकता है.

इसके अलावा यह अलार्म सिस्टम स्कूल को लॉक-डाउन मोड में भी रखता है ताकि कोई गलत व्यक्ति भीतर न आ सकें.

क़दम

इस साल ओस्लो के 70 स्कूलों में टेरर अलार्म लगाए जा रहे हैं. जबकि 2017 तक सभी 180 प्राथमिक स्कूलों में इसे लगा दिया जाएगा.

हाल के वर्षों में अमरीका, जर्मनी और फिनलैंड में स्कूलों पर हुए चरमपंथी हमलों को देखते हुए ये कदम उठाया जा रहा है.

होवस्टर स्कूल की प्रधानाध्यापिक कहती हैं, "दुनिया काफी बदल गई है, और हमें आतंकवाद से निपटने का तरीका निकालना ही होगा."

नॉर्वे में साल 2011 में दूसरे विश्व युद्ध के बाद से अब तक का सबसे भयंकर हमला हुआ था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार