उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच तनाव जारी

दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क गियून-हाय इमेज कॉपीरइट

दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क गियून-हाय ने कहा है कि सीमा पर दुष्प्रचार वाले प्रसारण तब तक बंद नहीं होंगे जब तक उत्तर कोरिया बारूदी सुरंग हमले के लिए माफ़ी नहीं मांगता. इस हमले में दक्षिण कोरिया के दो सैनिक घायल हो गए थे.

दोनों देशों की सीमा पर स्थिति तनावपूर्ण है और इस बीच उत्तरी कोरिया ने चेतावनी दी है कि यदि ऐसे प्रसारण बंद नहीं किए गए तो बल प्रयोग किया जा सकता है.

हालांकि रविवार को लगातार दूसरी रात इस मसले का समाधान तलाशने के लिए उच्च स्तरीय बातचीत जारी रही.

गुरुवार को सीमा पर हुई छिटपुट गोलीबारी के बाद दोनों देशों की सेना अलर्ट पर हैं.

उत्तर कोरिया का इंकार

इमेज कॉपीरइट AP

उत्तर कोरिया ने बारूदी सुरंग बिछाने से इनक़ार किया है जिसमें दक्षिण कोरिया के सैनिक घायल हो गए थे.

दक्षिण कोरिया ने गुरुवार को हुई गोलीबारी में भी अपना हाथ होने से इनक़ार किया है.

सरकारी कार्यालय से जारी बयान के मुताबिक राष्ट्रपति पार्क गियून-हाय ने कहा, "यदि उत्तर कोरिया चाहता है कि तनावपूर्ण हालात न बने तो वो फ़ौरन माफ़ी मांगे और क़दम उठाए. जब तक ऐसा नहीं होगा, लाउडस्पीकर प्रसारण जारी रहेगा."

मनोवैज्ञानिक जंग

दक्षिण कोरिया ने बारूदी सुरंग हमले के विरोध में 11 वर्ष के बाद इस महीने की शुरुआत में उन इलाक़ों में दुष्प्रचार वाला लाउडस्पीकर प्रसारण शुरू किया है जहां से सैनिकों को हटा दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट

दक्षिण कोरिया ने सीमावर्ती इलाक़े से क़रीब 4,000 निवासियों को हटा दिया है और चेतावनी दी है कि वह किसी भी आक्रामकता पर कठोरता से जवाबी कार्रवाई करेगा.

दक्षिण कोरियाई अख़बार कोरिया टाइम्स के अनुसार लाउडस्पीकर प्रसारण मनोवैज्ञानिक जंग का हिस्सा रहा है. इसका इस्तेमाल इसलिए होता है ताकि उत्तरी कोरिया के सैनिक और सीमावर्ती इलाके के लोग बाहरी ख़बरें सुन सकें.

दोनों कोरियाई देशों के बीच वर्ष 1950-1953 का संघर्ष युद्धविराम के साथ ख़त्म हुआ था लेकिन कोई शांति समझौता नहीं हो पाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार