नेपाल में पुलिस गोलीबारी से पाँच की मौत

  • 1 सितंबर 2015
इमेज कॉपीरइट AFP

नेपाल में संविधान के मसौदे को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शनों के दौरान पुलिस की गोली से पाँच लोगों की मौत हो गई है.

मारे गए लोग मधेशी समुदाय के हैं. पुलिस ने बीबीसी को बताया है कि उन्हें प्रदर्शनकारियों पर गोलियाँ चलाने को मजबूर होना पड़ा क्योंकि उन्होंने बंदूकों और चाकुओं से हमला किया था.

नए संविधान के प्रस्ताव के मुताबिक़ नेपाल को संघीय प्रांतों में बाँटा जाएगा. नेपाल के मधेशी और अन्य ग्रुपों का मानना है कि उनकी अनदेखी की जा रही है.

अधिकारियों के मुताबिक़ राजधानी काठमांडू से 90 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित बीरगंज में प्रदर्शनकारियों ने सरकारी कार्यालयों और पुलिस चौकियों में तोड़-फोड़ की. यहाँ पुलिस की गोली से चार लोग मारे गए.

मौत

इमेज कॉपीरइट AFP

जबकि नज़दीकी शहर कलैया में एक अन्य व्यक्ति की मौत हो गई.

इन सबको मिलाकर हाल के हफ़्तों में प्रदर्शन के दौरान कम से कम 20 लोगों की मौत हो चुकी है.

वर्ष 2008 में राजशाही की समाप्ति के बाद से ही नेपाल अंतरिम संविधान के आधार पर काम कर रहा है.

वर्षों तक चली उठापटक के बाद राजनीतिक दल इस साल संविधान के मसौदे पर सहमत हुए हैं.

प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट AFP

इस मसौदे के समर्थक ये कहते हैं कि नए संविधान से देश का आर्थिक विकास होगा और माओवादी विद्रोहियों के साथ शांति और मज़बूत होगी.

लेकिन प्रस्तावित सीमा को लेकर मतभेद चल रहे हैं. कई अल्पसंख्यक समूहों का कहना है कि उन्हें पर्याप्त अधिकार नहीं दिए जाएँगे.

नेपाल के कई हिंदू संगठन भी प्रदर्शन कर रहे हैं और मांग कर रहे हैं कि नेपाल को फिर से हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाए.

राजशाही की समाप्ति के बाद नेपाल धर्मनिरपेक्ष गणतंत्र हो गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार