पेरिस: महिलावादियों ने सड़क का नाम बदला

  • 1 सितंबर 2015
इमेज कॉपीरइट Osez le Fminisme

फ्रांस के महिलावादी समूह ने देश में पुरुषों के मुक़ाबले महिलाओं के नाम पर सार्वजनिक स्थलों के कम होने के ख़िलाफ़ जागरूकता अभियान के तहत शहर की सड़क का नाम बदल दिया है.

स्थानीय दैनिक अख़बार ली फ़िगैरो के मुताबिक़ 'ओसेज ली फ़ेमिनिज़्म' ने नॉट्रे डेम कैथेड्रल के पास के इलाक़े 'क्वाई डी ला टूअरनेल्ली' का नाम बदलकर महिला के नाम पर 'क्वाई डी नीना सिमोन' रख दिया है.

नीना सिमोन मशहूर अमरीकी जाज़ गायिका और नागरिक अधिकार कार्यकर्ता हैं.

समूह का कहना है कि महिलाओं को भी पुरुषों के समान पहचान मिलनी चाहिए और ये ज़रूरी है कि शहर के इतिहास में उनकी अपनी जगह हो.

समूह की प्रवक्ता मैरी एल्लीबर्ट बताती हैं, "पेरिस की केवल 2.6 फ़ीसदी सड़कों का नाम ही महिलाओं के नाम पर है."

इमेज कॉपीरइट
Image caption जर्मन छात्रा सोफी शॉल, 1943 में मारी गई एक नाज़ी विरोधी कार्यकर्ता.

सड़कों का नाम महिलाओं के नाम पर रखने के अभियान के तहत कई ऐसे नामों को चुना गया है जो मशहूर हैं, जैसे कि अमरीकी गायिका नीना सिमोन जिन्होंने अपने जीवन का अंतिम वक़्त फ्रांस में बिताया.

लेकिन साथ ही एक नई पहल करते हुए समूह ने कुछ ऐसी महिलाओ का नाम भी चुना है जिनकी उपलब्धि तो क़ाबिले तारीफ़ है, मगर जिन्हें पहचान कम मिली.

मैरी बताती हैं, "उदाहरण के लिए हमने एलिजाबेथ जैक्वेट डी ला गुएरे का नाम चुना है. वे एक बेहतरीन संगीतकार, रचनाकार हैं. उन्होंने उस 17वीं शताब्दी में शाही अदालत में अपना हुनर दिखाया जब पितृसत्ता अपने चरम पर था."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार