अमरीकाः चरमपंथ के आरोप में 20 साल क़ैद

इमेज कॉपीरइट AP

अमरीकी के एक बुज़ुर्ग को आत्मघाती बम हमले की योजना बनाने के लिए 20 साल क़ैद की सज़ा सुनाई गई है.

60 साल के टैरी लोवेन ने 2013 में इस काम को अंजाम देने की कोशिश की थी.

सरकारी वकीलों का कहना है कि टैरी लोवेन विचिता एयरपोर्ट में काम करते थे. इन्होंने धर्म परिवर्तन कर इस्लाम अपना लिया था और अल-क़ायदा के नाम पर वो ये हमले करना चाहते थे.

इन्होंने विस्फोटकों से भरी गाड़ी से ये हमला करने की योजना बनाई थी.

अमरीकी जाँच संस्था एफ़बीआई के दो गुप्तचरों ने इनका सहयोग करने का नाटक किया और जब हमला करने गए तो इन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया.

लोवेन एफ़बीआई के शक के घेरे में तब आए जब मई 2013 में वो फ़ेसबुक पर ऐसे व्यक्ति के दोस्त बने जो हिंसक जेहाद या पवित्र युद्ध के समर्थन में लगातार जानकारियां पोस्ट कर रहा था.

अधिकारी बताते हैं कि ये देख कर एफ़बीआई के एजेंट चिंतित हो उठे और फिर लोवेन के फ़ेसबुक अकाउंट को खंगाला गया.

फिर एक ऑनलाइन एजेंट ने उनसे संपर्क किया और कहा कि वह जिहाद में शामिल होना चाहता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार