चीन: स्कूल में शेयर मार्केट की पढ़ाई

  • 3 सितंबर 2015
चीन के एक स्कूल में पढ़ते छात्र इमेज कॉपीरइट Getty

चीन के शेयर बाज़ार में हालिया उठापटक के बीच देश के ग्वांगडोंग प्रांत में बच्चों को स्टॉक मार्केट के सबक सिखाने की योजना बनाई गई है.

इसके तहत कम उम्र में ही बच्चों को स्कूल में स्टॉक मार्केट की शिक्षा दी जाएगी. इस पायलट प्रोग्राम में 10 हज़ार छात्र हिस्सा लेंगे.

इस योजना को लेकर चीन में सोशल मीडिया पर ज़ोरदार बहस छिड़ गई है.

धन प्रबंधन

इमेज कॉपीरइट Getty

चीन के शेयर बाज़ार में हाल में बड़ी उथल-पुथल हुई थी जिसका असर दुनिया भर के स्टॉक मार्केट पर दिखा.

भारत और एशिया के बाकी देशों के शेयर बाज़ार भी इससे प्रभावित हुए.

चीन के 'द सदर्न मेट्रोपोलिस डेली' अख़बार के मुताबिक 'द चाइना सिक्यूरिटीज़ रेगुलेटरी कमीशन' ने देश के सबसे अमीर प्रांतों में से एक ग्वांगडोंग प्रांत में अपर प्राइमरी स्कूल के छात्रों को पढ़ाने के लिए कहा है कि 'धन का प्रबंधन और स्टॉक कारोबार कैसे किया जाए.'

अखबार के मुताबिक अगर ये कार्यक्रम कामयाब रहा तो पूरे प्रांत में नया पाठ्यक्रम लागू किया जाएगा.

छिड़ी बहस

इमेज कॉपीरइट AFP

इस योजना को लेकर चीन की माइक्रोब्लॉगिंग साइट वाइबो पर बहस छिड़ गई है. कुछ लोगों ने इस योजना का समर्थन किया है तो कई इसके विरोध में अपने विचार रख रहे हैं.

योजना का समर्थन करने वालों का कहना है कि धन प्रबंधन सीखने के लिए कोई उम्र कम नहीं होती.

लेकिन कई लोगों ने इसके विरोध में भी राय रखी है. उनका कहना है कि शिक्षा प्रणाली मानकों के अनुरूप नहीं है.

विरोध करने वालों में से एक शख्स ने लिखा, "वो अब तक सेक्स एजुकेशन या फिर क़ानून की पढ़ाई कराने में सक्षम नहीं हैं. बच्चों को सबसे पहले ये सिखाया जाना चाहिए कि उन्हें कैसा बर्ताव करना चाहिए."

कई लोग इसके नैतिक असर को लेकर भी चिंतित हैं.

एक व्यक्ति का कहना है, "कम उम्र में स्टॉक मार्केट के संपर्क में आने से बच्चे जुआ खेलने के लिए प्रेरित हो सकते हैं."

एक आलोचक ने कहा कि पेंशनरों को निचोड़ने के बाद वो अब नन्हें शेयरधारकों को अपने चंगुल में लेना चाहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार