सेना में तीन लाख की कटौती करेगा चीन

  • 3 सितंबर 2015
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन समेत दुनियाभर के कई नेता परेड देखने पहुँचे हैं.

दूसरे विश्व युद्ध में जापान के आत्मसमर्पण के 70 साल पूरे होने पर चीन ने बीजिंग के ऐतिहासिक थियानमेन चौक पर विशाल सैन्य परेड निकाला.

इमेज कॉपीरइट Reuters

रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन समेत दुनियाभर के कई नेता इस परेड को देखने के लिए मौजूद थे. भारत की ओर से विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह मौजूद थे.

इमेज कॉपीरइट Getty

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने इस मौक़े पर अपने संबोधन में वैश्विक शांति का आह्वान किया.

शी जिनपिंग ने ज़ोर देकर कहा कि चीन शांतिपूर्ण विकास के लिए प्रतिबद्ध है और कभी भी विस्तार नहीं करेगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने चीन की सेना में तीन लाख की कटौती करने का भी ऐलान किया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

शी जिनपिंग ने कहा, "चीन कितना ही शक्तिशाली क्यों ना हो जाए फिर भी हम कभी विस्तार या अपना वर्चस्व नहीं क़ायम करेंगे. इतिहास में चीन ने ख़ुद जो सहा है वह किसी और राष्ट्र पर कभी नहीं करेगा."

इमेज कॉपीरइट AFP

शी जिनपिंग ने विश्व शांति का आह्वान करते हुए कहा, "युद्ध एक शीशा है जिसमें देखकर हम शांति का असल मूल्य समझ सकते हैं."

इमेज कॉपीरइट AFP

ताइवान में बीबीसी संवाददाता के मुताबिक़ ताइवान के राष्ट्रपति ने चीन की आलोचना करते हुए कहा है कि चीन यह संदेश देने की कोशिश कर रहा है कि जापान को मौजूदा समय में ताइवान पर शासन करने वाले राष्ट्रवादियों के बजाए कम्यूनिस्ट पार्टी ने हराया था.

इस विशाल परेड में बारह हज़ार चीनी सैनिकों ने हिस्सा लिया.

इमेज कॉपीरइट Getty

रूस के सैनिकों समेत एक हज़ार विदेशी सैनिक भी परेड में मौजूद थे.

इमेज कॉपीरइट EPA

चीन ने परमाणु सक्षम बेलिस्टिक मिसाइल समेत अपने अत्याधुनिक हथियारों का भी प्रदर्शन किया.

इमेज कॉपीरइट AP

चीन में अब तक चौदह विशाल सैन्य परेडें निकाली गई हैं. जापान के आत्मसमर्पण और दूसरे विश्व युद्ध की समाप्ति की याद में ये पहली परेड थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए