ग्रीस के पास नाव पलटी, 28 प्रवासी डूबे

इमेज कॉपीरइट EPA

सीरिया और इराक़ में विद्रोही गतिविधियों के कारण यूरोप में हज़ारों प्रवासियों का दाखिल होना जारी है. दक्षिण जर्मनी में बड़ी संख्या में प्रवासी पहुँच रहे हैं.

उधर ग्रीस के कोस्टगार्ड ने कहा है कि एगियन सी में एक नौका के पलटने से एक बच्चे समेत कम से कम 28 लोग डूब गए हैं.

कोस्टगार्ड के मुताबिक नौका में कम से कम 100 लोग सवार थे जब वह फ़ार्माकोनीसी टापू के पास पलट गई. कुछ लोग ही तैर कर टापू तक पहुँच पाए जबकि 68 को कोस्टगार्ड ने बचाया.

वहीं ख़बर है कि जर्मनी अपनी सीमा पर फिर कुछ कदम उठा रहा है ताकि बड़ी संख्या में आ रहे लोगों से निपटा जा सके. ये स्पष्ट नहीं है कि ये क्या कदम होंगे.

जर्मनी के म्यूनिख में अधिकारियों ने कहा है कि शनिवार को 13 हज़ार लोग वहाँ पहुँचे हैं. स्थानीय प्रशासन ने आगाह किया है कि शरणार्थियों से निपटने के मामले में शहर उस स्थिति में है जहाँ और लोगों को लेना मुश्किल हो सकता है.

क्या है यूरोप का प्रवासी संकट

मेयर ने कहा 'जगह की कमी'

सीरिया, इरीट्रिया और अफ़ग़ानिस्तान जैसे देशों से भाग कर आ रहे लोगों से निपटने में यूरोपीय देशों को अब संघर्ष करना पड़ रहा है.

जर्मनी में म्यूनिख ऐसे लोगों का मुख्य केंद्र बना हुआ जो बेहतर ज़िंदगी की तलाश में अपने देशों से भागकर आ रहे हैं.

म्यूनिख के मेयर ने स्थानीय मीडिया से कहा है कि लोगों को रखने के लिए जगह की कमी हो रही है.

हंगरी में आना जारी

इमेज कॉपीरइट Reuters

अधिकारी इस बात पर विचार कर रहे हैं कि 1972 ओलंपिक के समय बनी एक इमारत को अस्थाई तौर पर इस्तेमाल किया जाए.

उधर जर्मनी की चांसलर एंगला मर्केल ने इतनी बड़ी संख्या में शरणार्थियों को आने देने के फ़ैसले का बचाव किया है.

सर्बिया से हंगरी में भी रिकॉर्ड संख्या में लोग आ रहे हैं. शनिवार को करीब 4000 लोग हंगरी पहुँचे.

हंगरी में अधिकारी सीमा को सील करने की तैयारी में जुटे हैं.

हंगरी बनाएगा ऊँची दीवार

इमेज कॉपीरइट AFP

अधिकारियों के मुताबिक इस साल अब तक सर्बिया से हंगरी में करीब एक लाख 75 हज़ार लोग आ चुके हैं.

हंगरी सीमा पर चार मीटर ऊँची दीवार 15 सितंबर तक पूरी करने की कोशिश में जुटा हुआ है. उसके बाद से हंगरी में प्रवासियों को लेकर क़ानून कड़े कर दिए जाएँगे.

शरणार्थियों से जानवरों जैसा सलूक

शुक्रवार को फुटेज सामने आया था जिसमें प्रवासियों के सामने खाने के डिब्बे फेंके जा रहे थे और आलोचना हुई थी कि उनके साथ जानवरों जैसा बर्ताव हो रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार