'हमले का मंसूबा अफ़ग़ानिस्तान में बना और ...'

  • 19 सितंबर 2015
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption हमला शुक्रवार की सुबह छह बजे के आसपास हुआ. निशाना एयरबेस में मौजूद एक मस्जिद थी.

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता ने कहा है कि पेशावर सैनिक एयरबेस पर हमले की योजना अफ़ग़ानिस्तान में बनी थी और चरमपंथी भी वहीं से आए थे.

शुक्रवार सुबह कैंप के अंदर मौजूद एक मस्जिद पर हमला किया गया था जिसमें 26 फौजियों समेत कुल 43 लोगों की मौत हो गई थी.

कार्रवाई ख़त्म होने के कुछ घंटे बाद शुक्रवार शाम एक प्रेसवार्ता में मेजर जनरल असीम बाजवा ने ये भी कहा कि हमले को अफ़ग़ानिस्तान से ही नियंत्रित किया गया था.

'बातचीत से पता चला .. '

Image caption हमले में कुल 43 लोगों की मौत हुई जिसमें सेना के 26 लोग शामिल थे.

उन्होंने कहा कि हमले में वायुसेना के 23 और थलसेना के तीन कर्मियों की मौत हो गई. चार दूसरे लोग भी हमले का शिकार हुए जो वायुसेना में नागरिक पदों पर काम करते थे.

बाजवा ने कहा, "कार्रवाई के दौरान ख़ुफिया एजेंसियों ने हमलावरों की जो बातें सुनी उससे यह साबित होता है कि उनका संबंध तहरीके तालिबान पाकिस्तान के एक समूह से था और वो सभी अफ़ग़ानिस्तान से आए थे."

चंद साल पहले मुंबई में हुए हमलों को लेकर भारत कुछ इसी तरह के दावे करता रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत कहता है कि मुंबई शहर पर हुए हमले की योजना पाकिस्तान में तैयार हुई थी और उसे कंट्रोल भी वहीं से किया गया था.

हमलावरों की संख्या पर दावे को लेकर किए गए एक सवाल के जवाब में बाजवा ने कहा कि जितने भी चरमपंथी कैंप में दाख़िल हुए थे उन्हें मार दिया गया है. और उनके शव वहां मौजूद हैं.

उन्होंने कहा कि हमलावर मिलिशिया की वर्दियां पहने थे और उनके पास रॉकेट लांचर भी थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार