1.1 करोड़ फ़ोक्सवैगन कारों में है गड़बड़ी

फ़ॉक्सवैगन इमेज कॉपीरइट AFP

जर्मन कार निर्माता फ़ोक्सवैगन ने कहा है कि दुनिया भर में उसकी 1.1 करोड़ गाड़ियां उत्सर्जन टेस्ट से जुड़ी गड़बड़ी से प्रभावित हैं.

अमरीकी अधिकारियों ने आरोप लगाया था कि इन कारों में एक ख़ास तरह का सॉफ़्टवेयर लगा है जो प्रदूषण के स्तर की सही जानकारी नहीं देता.

कंपनी ने इस गड़बड़ी की क्षतिपूर्ति के लिए 6.5 अरब यूरो अलग रख दिए हैं.

फ़ोक्सवैगन के अमरीकी व्यवसाय के प्रमुख माइकल हॉर्न ने स्वीकार किया कि प्रदूषण मानकों में हेराफेरी के लिए सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल करके कंपनी ने 'पूरी तरह गड़बड़' कर दी है.

सोमवार को 19% गिरने के बाद मंगलवार को फ्रैंकफ़र्ट में फ़ॉक्सवैगन के शेयर 20% गिर गए.

'पारदर्शिता की मांग'

इमेज कॉपीरइट AP

पिछले शुक्रवार को अमरीकी पर्यावरण संरक्षण संस्था (ईपीए) ने कहा था कि फ़ोक्सवैगन की डीज़ल कारों का प्रदूषण उत्सर्जन उससे कहीं ज़्यादा है जितना जांच के बाद पता चलता है और कई डीज़ल गाड़ियों में लगा सॉफ़्टवेयर नियामक संस्थाओं को धोखा दे सकता है.

ब्रिटेन के परिवहन सचिव पैट्रिक मैकलॉलिन ने कहा कि ब्रिटेन 'स्थिति पर बारीक नज़र रखे हुए है' और यूरोपीय यूनियन के स्तर पर ज़्यादा सटीक जांच के लिए प्रयास कर रहा है'.

इस बीच जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल ने फ़ॉक्सवैगन से इस मामले को सुलझाने में 'पूरी पारदर्शिता' की मांग की है.

उन्होंने पत्रकारों को बताया, "जर्मन परिवहन मंत्री कंपनी से साथ संपर्क में हैं और मुझे उम्मीद है कि जल्द से जल्द तथ्य सबके सामने होंगे."

इमेज कॉपीरइट AFP

इससे पहले फ्रांसीसी वित्त मंत्री माइकल सैपिन ने सार्वजनिक रूप से यूरोपीय यूनियन की जांच की बात कही थी लेकिन ब्रिटेन के कार उद्योग के एक प्रवक्ता ने कहा था कि धोखाधड़ी के 'कोई सुबूत नहीं' हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार