'मुख्य संदिग्ध ने ही रखा मंदिर के पास बम'

  • 26 सितंबर 2015
बैंकॉक धमाके मुख्य संदिग्ध इमेज कॉपीरइट AFP

थाईलैंड की पुलिस ने कहा है कि बैंकॉक के इरावन मंदिर बम धमाके के मामले में एक महीने पहले पकड़े गए मुख्य संदिग्ध ने ही मंदिर के पास बम रखा था.

17 अगस्त को हुए बम धमाके के दो हफ्ते बाद एक संदिग्ध को तुर्की के फर्ज़ी पासपोर्ट के साथ पकड़ा गया था. इसके पास बड़ी मात्रा में बम बनाने की सामग्री भी बरामद की गई थी.

इस बम धमाके में 20 लोग मारे गए थे, हालाँकि धमाका किस मक़सद से किया गया, ये अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है.

बीबीसी संवाददाता जॉनाथन हेड के मुताबिक बैंकॉक में पुलिस दोनों संदिग्धों को घटनास्थल पर भी ले गई.

पर्याप्त सबूत

इमेज कॉपीरइट AFP

थाई पुलिस प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि पुलिस के पास पर्याप्त सबूत हैं जिनमें सुरक्षा कैमरों से मिले सबूतों के अलावा संदिग्ध के कैमरे से मिले वीडियो और तस्वीरें भी शामिल हैं.

पुलिस का कहना है कि सबूतों के आधार पर कहा जा सकता है कि सीसीटीवी फुटेज में धमाके के दिन बम रखकर भागने वाला पीली टी-शर्ट वाला व्यक्ति वही है जिसे सबसे पहले पुलिस ने एक महीने पहले हिरासत में लिया था.

17 गिरफ्तारी वॉरंट्स

इमेज कॉपीरइट AP

पुलिस ने अब तक इरावन बम धमाके के मामले में 17 गिरफ्तारी वारंट जारी किए हैं, पुलिस का मानना है कि इन 17 लोगों ने मिलकर बम धमाके की योजना बनाई थी.

17 संदिग्धों के खिलाफ़ बम धमाके से जुड़े आठ अपराधों के मामले में आरोप तय किए जाएंगे.

मुख्य संदिग्ध को तुर्की के फर्ज़ी पासपोर्ट के साथ पकड़ा गया था, लेकिन उसके वकील का दावा है कि वह वीगर मुसलमान है जो करीब एक दशक पहले तुर्की में जाकर बस गया था.

दूसरा संदिग्ध भी वीगर मुस्लिम है और उसके पास चीन का पासपोर्ट है.

इमेज कॉपीरइट EPA

थाईलैंड की पुलिस को अब भी जिन लोगों की तलाश है उनमें ज़्यादातर विदेशी नागरिक हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार