नेपाल में भारत विरोधी प्रदर्शन

नेपाल में छात्र समूहों का प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption कई संगठनों से जुड़े छात्रों ने भारत विरोधी प्रदर्शन किया है.

भारत पर अघोषित आर्थिक नाकेबंदी का आरोप लगाते हुए छात्रों ने नेपाल की राजधानी में प्रदर्शन किए हैं.

नेपाल ने पिछले सप्ताह नया संविधान स्वीकार किया था. लेकिन तराई के मधेसी और थारू लोगों इस संविधान में अपने अधिकारों की अनदेखी से चिंतित हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसके बाद से भारत और नेपाल के बीच भी कूटनीतिक स्तर पर तनाव बना हुआ है.

हाल में नेपाल के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने आरोप लगाया था कि भारत नेपाल की अघोषित आर्थिक नाकेबंदी कर रहा है.

इमेज कॉपीरइट AP

भारत और नेपाल के बीच लंबी सीमा से सड़क यातायात के ज़रिए नेपाल में कई तरह के सामान की आपूर्ति होती है. अब वहाँ ईंधन की ख़ासी किल्लत हो रही है

छात्रों का विरोध प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption छात्रों ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी भी की है.

सोमवार को इसी मुद्दे पर नेपाल में कई छात्र संगठनों ने काठमांडू में भारतीय दूतावास के बाहर प्रदर्शन किया है.

छात्रों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंकने की कोशिश भी की. उन्होंने भारत पर अपने पड़ोसी देश पर दबाव बनाने के आरोप लगाए.

इमेज कॉपीरइट EPA

उधर नेपाल के तराई इलाक़ों में अगस्त से जारी संविधान विरोधी प्रदर्शनों में अब तक 40 से ज़्यादा लोग मारे गए हैं.

नेपाल लगातार आरोप लगा रहा है कि भारत की अघोषित नाक़ेबंदी की वजह से ज़रूरी सामान नेपाल नहीं पहुँच पा रहा है.

इमेज कॉपीरइट AP

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक सोमवार को ईधन और ज़रूरी सामानों से भरे कुछ ट्रक नेपाल में दाख़िल हुए हैं. हालांकि अभी भी सीमा पर ट्रकों की लंबी कतारे लगी हैं.

प्रदर्शन कर रहे छात्र भारत से सीमाएँ खोलने और नेपाल के आंतरिक मामलों में दख़ल न देने की अपील कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

भारत नेपाल का सबसे बड़ा कारोबारी सहयोगी है और नेपाल में संविधान को लेकर चल रहे तनाव पर अपनी चिंता व्यक्त कर चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार