'जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ जंग में भारत अहम'

इमेज कॉपीरइट AFP

न्यूयॉर्क में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुलाक़ात के बाद अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ जंग में आनेवाले कई दशकों तक भारत के नेतृत्व की बेहद अहम भूमिका होगी.

उन्होंने कहा कि वो और प्रधानमंत्री मोदी, दोनों ही इस बात पर एकमत हैं कि ये समस्या दुनिया के लिए बहुत बड़ी चुनौती है.

राष्ट्रपति ओबामा का कहना था, "प्रधानमंत्री मोदी ने साफ़-सुथरी ऊर्जा के इस्तेमाल के लिए जो एक आक्रामक रूख दिखाया है वो हम सब के लिए काफ़ी उत्साहवर्धक है."

जलवायु परिवर्तन एक अहम मुद्दा

प्रधानमंत्री मोदी ने भी मुलाक़ात के बाद कहा कि विकास को नुकसान पहुंचाए बिना जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ वो पक्के इरादे के साथ कदम उठाएंगे.

इस मुलाक़ात की शुरूआत में ओबामा और मोदी एक दूसरे से गले मिले जो दोनों देशों के रिश्तों में बढ़ती गर्मजोशी को दिखाता है.

सोमवार की ही सुबह प्रधानमंत्री ब्रिटेन के प्रधानमंत्री और फ्रांस के राष्ट्रपति से भी मिले.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन

इन तीनों मुलाक़ातों में जलवायु परिवर्तन एक अहम मुद्दा बन कर उभरा.

और विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी ने तीनों ही राष्ट्राध्यक्षों से कहा कि भारत इस मामले की अगुवाई करने को तैयार है.

विश्लेषकों का कहना है इस साल के आख़िर में पेरिस में होने वाले जलवायु सम्मेलन से पहले राष्ट्रपति ओबामा इस मुद्दे पर एकमत कायम करने की कोशिश कर रहे हैं.

संयुक्त राष्ट्र की स्थाई सदस्यता

इमेज कॉपीरइट Getty

और अगर भारत इस मुहिम में उनके साथ आता है तो जलवायु परिवर्तन रोकने के लिए एक बड़े समझौते की उम्मीद बनती है.

राष्ट्रपति ओबामा के साथ हुई मुलाक़ात में भारत के लिए संयुक्त राष्ट्र की स्थाई सदस्यता भी बातचीत का अहम विषय था.

प्रधानमंत्री मोदी ने स्थाई सदस्यता के लिए भारत की उम्मीदवारी के समर्थन के लिए राष्ट्रपति ओबामा का शुक्रिया अदा किया और साथ ही संयुक्त राष्ट्र के सुधार की प्रक्रिया को एक निश्चित समयसीमा के अंदर पूरी करने की गुज़ारिश भी की.

आपसी बातचीत में आतंकवाद और उसके ख़िलाफ़ एक दूसरे के साथ सहयोग को और बढ़ाने पर भी बातचीत हुई.

एक सवाल के जवाब में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप का कहना था कि पाकिस्तान का ज़िक्र आतंकवाद पर हो रही बातचीत के दौरान आया लेकिन प्रवक्ता ने उस का और कोई ब्यौरा नहीं दिया.

कामयाब यात्रा

इमेज कॉपीरइट TV IMAGE
Image caption विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप

विकास स्वरूप का कहना था कि ये मुलाक़ात दोनों ही नेताओं की गाढ़ी होती निजी केमिस्ट्री के साथ साथ दोनों देशों के बीच हर पहलू पर बढ़ती साझेदारी को दिखाता है.

राष्ट्रपति ओबामा से मुलाक़ात से पहले मोदी ब्रिटेन के प्रधानमंत्री से भी मिले.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने उनसे कहा कि उन्हें नवंबर में होनेवाले मोदी के लंदन दौरे का इंतज़ार रहेगा.

विकास स्वरूप के अनुसार, प्रधानमंत्री कैमरन ने हंसते हुए मोदी से कहा, "शायद आप दुनिया के एकमात्र नेता हैं जिसके स्वागत में विशाल वेंबली स्टेडियम भी भर जाएगा."

प्रधानमंत्री मोदी सोमवार की शाम भारत के लिए रवाना हो जाएँगे और उनके अमरीका दौरे को यहां काफ़ी कामयाब माना जा रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार