बताने के बावजूद 'अमरीकी हमला जारी रहा'

  • 3 अक्तूबर 2015
कुंदूज़, अफ़गानिस्तान एमएसएफ़ अस्पताल इमेज कॉपीरइट MSF

मेडिकल चैरिटी एमएसएफ़ ने कहा है कि अमरीकी और अफ़गान अधिकारियों को अस्पताल के बारे में बताने के बावजूद भी हवाई हमला अगले 30 मिनट तक जारी रहा.

उस समय अमरीका क्षेत्र में हवाई हमला कर रहा था. नेटो गठबंधन ने माना है कि हो सकता है कि क्लीनिक पर हमला हुआ हो.

कुंदूज़ में हुए हवाई हमले में कम से कम नौ स्वास्थकर्मी मारे गए हैं.

'शायद हुआ हो अस्पताल पर हमला'

इमेज कॉपीरइट AFP Getty

हमले में 37 लोग गंभीर रूप से घायल हैं जिनमें 17 एमएसएफ़ कर्मचारी हैं. अस्पताल में 100 से ज़्यादा मरीज़ थे और उनके तीमारदार और रिश्तेदार भी. यह पता नहीं चल पाया है कि उनमें से कितने मारे गए हैं.

एमएसएफ़ का कहना है कि इस जंग के सभी पक्षों को जिनमें अमरीका और अफ़गानिस्तान भी शामिल है को, 29 सितंबर समेत कई बार, कुंदूज़ में उसके अस्पताल के जीपीएस को-ऑर्डिनेट्स के बारे में बता दिया गया था.

एमएसफ़ ने कहा कि शनिवार की सुबह दूर से हो रही गोलीबारी के बारे में पता चलने पर एक बार फिर अमरीकी और अफ़गानी सेना को इस बारे में बताया गया था.

इमेज कॉपीरइट AP

अफगानिस्तान में अमरीकी सेना के प्रवक्ता कर्नल ब्रायन ट्रायबस ने कहा, "अमरीकी सेना ने कुंदूज़ शहर में सेना के लिए ख़तरा बन रहे लोगों पर हमला किया था."

"हो सकता है कि हमले से पास के एक चिकित्सा संस्था को भी नुक़सान पहुंचा है."

उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जा रही है.

'चरमपंथी थे अस्पताल में'

अफ़गानिस्तान के गृह मंत्रालय ने कहा कि 10 से 15 चरमपमंथियों का समूह अस्पताल में छुपा हुआ था.

हालांकि तालिबान ने इससे इनकार किया है कि उसके लड़ाके वहां छुपे हुए थे.

इमेज कॉपीरइट EPA

मंत्रालय के प्रवक्ता सेदिक सेदिकि ने कहा, "वह मारे गए, सभी चरमपंथी मारे गए लेकिन कुछ डॉक्टर भी मारे गए."

अफ़गानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन के प्रमुख निकोलस हेयसम ने एमएसएफ़ की तारीफ़ करते हुए कहा, "मरीज़ों और स्वास्थ्यकर्मियों को रहने की जगह देने वाले अस्पताल कभी भी हमले का निशाना नहीं हो सकते."

इंटरनेशनल कमिटी ऑफ़ रेड क्रॉस (आईसीआरसी) ने भी बमबारी की कड़ी निंदा की है.

अफगानिस्तान के उत्तरी शहर कुंदूज़ में सोमवार को तलिबान के कब्ज़े के बाद से यहां संघर्ष तेज़ हो गया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

अफ़ग़ान अधिकारियों का दावा है कि सुरक्षाबलों ने शुक्रवार को तालिबान के कब्ज़े से शहर को छुड़ा लिया है. लेकिन तालिबान इस बात से इनकार कर रहा है.

तालिबान नेता मुल्ला अख़्तर मनसौर ने कुंदूज़ शहर पर तालिबान के कब्ज़े को बड़ी जीत बतया है.

तीन लाख़ की आबादी वाला कुंदूज़ शहर अफगानिस्तान के सबसे बड़े शहरों में से एक है और ये कई मायनों में बेहद महत्वपूर्ण भी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए