यूएन ने कुंदूज़ हमले की जांच के आदेश दिए

इमेज कॉपीरइट EPA

अफ़ग़ानिस्तान के कुंदूज़ के एक अस्पताल पर हुए हवाई हमले की जवाबदेही तय करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने इस घटना की विस्तृत और निष्पक्ष जांच के आदेश दिए हैं.

मून के कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक़ कुंदूज़ में जो हुआ उसकी जवाबदेही तय करने के लिए इस हमले की जांच ज़रूरी है.

कुंदूज़ के एक अस्पताल में हुई बमबारी में कम से कम 19 लोग मारे गए थे. अमरीकी सेना ने माना है कि उसने अफ़ग़ानिस्तान के कुंदूज़ के उस इलाक़े में हवाई हमले किए थे जहाँ पास में एक अस्पताल था.

अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि वो चरमपंथियों को निशाना बना रहे थे और जो हुआ वो 'कोलैट्रल डैमेज' था.

अमरीकी रक्षा मंत्री ने कहा है कि मामले की पूरी जाँच हो रही है.

इस हमले को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार संस्था के उच्चायुक्त ने दुखद और अक्षम्य क़रार दिया. उन्होंने कहा कि अगर ऐसा जानबूझ कर किया गया है तो ये अंतरराष्ट्रीय क़ानून का गंभीर उल्लंघन है.

उच्चायुक्त ज़ेद राद अल अल हुसैन ने इस हमले की पूरी और पारदर्शी जांच की अपील की है.

मेडिकल चैरिटी मेडिकल सैन्ज़ फ्रंटियर्स (एमएसएफ़) ने कहा है कि इस हमले में उसके सात मरीज़ों की मौत हुई है और 12 कर्मचारी घायल हुए हैं.

इस हमले में क़रीब 37 लोग गंभीर रूप से घायल हैं.

ज़िम्मेदारी

इमेज कॉपीरइट Getty

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त हुसैन ने कहा, "अंतरराष्ट्रीय और अफ़ग़ान सेना की यह ज़िम्मेदारी है कि वो आम नागरिकों की इज़्ज़त करें और उन्हें सुरक्षा मुहैया कराएं."

उन्होंने आगे कहा, "इससे फ़र्क़ नहीं पड़ता कि इस हमले में किसकी एयरफ़ोर्स का हाथ था लेकिन ज़िम्मेदारी सभी को लेनी पड़ेगी."

वहीं एमएसएफ़ ने कहा कि इस विवाद से जुड़े सभी पक्षों को इससे पहले कई बार अस्पताल का स्पष्ट ठिकाना बताया गया था.

एमएसएफ़ के उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान के प्रमुख हेमन नेगराथम कहते हैं, "जैसे ही बम से हमला हुआ हमने विमान की आवाज़ सुनी."

उन्होंने आगे बताया, "कुछ देर के बाद और भी कई बमों से हमला किया गया और यह बार-बार होता रहा. इसके बाद हमने मरीज़ों को सुरक्षा के लिए दो बंकरों में पहुंचाया."

एमएसएफ़ के मुताबिक़ एक घंटे तक 15 मिनट के अंतराल पर बमबारी होती रही जबकि नैटो और वाशिंगटन कई बार फ़ोन किया गया.

जांच

इमेज कॉपीरइट AFP

अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी सेना के प्रवक्ता कर्नल ब्रायन ट्रिबुस ने कहा, "अमरीकी सेना ने कुंदूज़ शहर में स्थानीय समयानुसार दोपहर 2.15 बजे हवाई हमला किया."

उन्होंने बताया, "इस हमले से वहां मौजूद अस्पताल को भी शायद नुक़सान पहुंचा है."

वहीं अमरीका के रक्षा मंत्री ऐश कार्टर ने कहा, "हम फ़िलहाल अभी यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि आख़िर हुआ क्या है. मैं उन सभी लोगों के लिए प्रार्थना करना चाहूंगा जो इस हमले से प्रभावित हुए हैं."

उन्होंने कहा, "हम अफ़ग़ान सरकार के साथ मिलकर इस दुखदायी घटना की जांच कर रहे हैं."

आरोप-प्रत्यारोप

इमेज कॉपीरइट Getty

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ ग़नी ने कहा है कि गठबंधन सेना ने इस हमले के लिए माफ़ी मांगी है.

वहीं अफ़ग़ानिस्तान के गृह मंत्रालय ने कहा कि अस्पताल में 10 से 15 चरमपंथी छिपे हुए थे. मंत्रालय के प्रवक्ता सादिक़ सिद्दीक़ी ने कहा, "इस हमले में सभी चरमपंथी मारे गए हैं लेकिन मरने वालों में कुछ डॉक्टर भी शामिल थे."

हालांकि तालिबान ने अपने किसी भी सदस्य के वहां होने की बात से इनकार कर दिया है.

एक संदेश जारी करते हुए तालिबान ने इस हमले को जानबूझकर किया गया बताया. साथ ही उन्होंने इसे अमरीकी सेना का बर्बर कृत्य क़रार दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार