ओरेगॉन: गोलीबारी करने वाले ने की थी 'आत्महत्या'

क्रिस हार्पर मर्सर इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption क्रिस हार्पर मर्सर

अमरीका में कुछ दिन पहले ओरेगॉन कॉलेज में नौ लोगों की हत्या करने के बाद 26 वर्षीय क्रिस हार्पर मर्सर ने खुद को गोली मार ली थी.

डगलस काउंटी के शेरिफ जॉन हेनलिन ने बताया है कि शव की जांच करने वाले डॉक्टर ने मौत का कारण आत्महत्या बताया है.

पहले ख़बर आई थी कि गोलीबारी के बाद पुलिस मुठभेड़ में उनकी मौत हो गई थी.

एक प्रेसवार्ता के दौरान अधिकारियों ने बताया है कि क्रिस उसी कॉलेज में पढ़ता था जहां उन्होंने गोलीबारी को अंजाम दिया.

साथ ही उन्होंने कहा कि क्रिस के घर की जांच करने पर वहां से 14 हथियार भी बरामद हुए थे.

धर्म हो सकती है वजह

इमेज कॉपीरइट AFP

यह अभी साफ नहीं है कि क्रिस ने आख़िर ऐसा क्यों किया. हालांकि इस हमले में बचने वाले दो पीड़ितों के अनुसार क्रिस ने लोगों को मारने से पहले उनका धर्म पूछा.

जिसने भी खुद को ईसाई बताया क्रिस ने उन्हें गोली मार दी. वहीं उसके पिता ईयान मर्सर का कहना है कि उनके बेटे ने जो भी किया उससे वो बहुत ही सदमे में हैं.

गुरुवार को क्रिस उम्पक्वा कम्युनिटी कॉलेज में छह बंदूके लेकर आए और वहां मौजूद लोगों पर गोलियां चलाईं जिसमें आठ छात्रों और एक शिक्षक की मौत हो गई.

'प्रार्थना अब काफी नहीं'

इमेज कॉपीरइट Reuters

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने शस्त्र क़ानून को कड़ा करने की मांग करते हुए कहा है, "प्रार्थना अब काफी नहीं है."

ओबामा ने कहा इस तरह की घटनाएं अब नियमित हो गई हैं.

उन्होंने कहना था कि धरती पर हम इकलौते देश नहीं हैं जहाँ दिमाग़ी रूप से बीमार लोग हैं और दूसरे लोगों को नुक़सान पहुँचाना चाहते हैं

ओबामा ने आगे कहा, "लेकिन हम धरती में इकलौते विकसित देश हैं, जहाँ तक़रीबन हर महीने गोलीबारी की घटनाएं होती हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार