'प्लेब्वॉय' अब नहीं छापेगी नंगी तस्वीरें

पत्रिका के प्रमुख संपादक ह्यू हेफ़नर इमेज कॉपीरइट AP

केवल व्यस्कों के लिए प्रकाशित होने वाली पत्रिका 'प्लेब्वॉय' ने फ़ैसला किया है कि वो अब नग्न महिलाओं की फ़ोटो नहीं छापेगी.

पत्रिका ने ख़ुद को नए रंग-रूप में डिज़ाइन किया है, इसके तहत यह फ़ैसला लिया गया है.

अमरीकी अख़बार ' न्यूयार्क टाइम्स' की एक ख़बर के मुताबिक़ 'प्लेब्वॉय' के मालिक का कहना है कि इंटरनेट ने नग्नता को अब पुरानी बात बना दी है, ऐसे में पोर्न पत्रिकाएं छापना आर्थिक रूप से फ़ायदे का सौदा नहीं रह गई हैं.

घटी माया

इमेज कॉपीरइट AFP

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक़ 1953 में स्थापित 'प्लेब्वॉय' का सर्कुलेशन 1970 के दशक में क़रीब 56 लाख प्रतियां था, जो अब घटकर क़रीब आठ लाख ही रह गया है.

हालांकि पत्रिका महिलाओं की उत्तेजक फ़ोटो छापना बंद नहीं करेगी. लेकिन पूरी तरह से नग्न महिलाओं की फ़ोटो नहीं छापेगी.

पत्रिका ने यह फ़ैसला पिछले महीने आयोजित एक बैठक में लिया. बैठक में प्लेब्यॉय के संस्थापक और वर्तमान में प्रमुख संपादक ह्यू हेफ़नर भी मौज़ूद थे.

'न्यूयार्क टाइम्स' के मुताबिक़ पत्रिका के मुख्य कार्यकारी स्कॉट फ्लैंडर ने स्वीकार किया कि पत्रिका ने जिन बदलावों की शुरूआत की थी, उन्हीं में वो पीछे छूट गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

उन्होंने कहा, ''आप सेक्स की हर भाव-भंगिमा से केवल एक क्लिक दूर हैं, जो मुफ़्त में उपलब्ध है.''

फ़ेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने के लिए प्लेब्यॉय की वेबसाइट से नग्नता को आशंकि रूप से पहले ही हटाया जा चुका है. वहीं वेबसाइट पर ट्रैफ़िक बढ़ने से इसकी लोकप्रियता में चौगुना उछाल आया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार