फॉक्सवैगन 24 लाख कारें वापिस लेगा

फॉक्सवैगन इमेज कॉपीरइट getty images

जर्मनी की वाहन निरीक्षक संस्था केबीए ने फॉक्सवैगन को आदेश दिया है कि वो बाज़ार से अपनी 24 लाख कारें वापिस ले.

ये आदेश फॉक्सवैगन की डीज़ल गाड़ियों में उत्सर्जन रिपोर्ट में हेरफेर करने वाले सॉफ्टवेयर को लगाए जाने की ख़बरों के मद्देनज़र दिया गया है.

जर्मन मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक़, केबीए ने पहले फॉक्सवैगन के इस सुझाव को खा़रिज कर दिया था कि कार मालिक स्वेच्छा से अपनी कार मरम्मत के लिए ला सकता है.

इटली में छापा

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption फॉक्सवैगन

इस बीच इटली की पुलिस ने वेरोना में फॉक्सवैगन और बोलोग्ना में लैम्बोर्गिनी के दफ्तरों पर छापा मारा है.

ख़बरों के मुताबिक, इतालवी अभियोजक कथित वित्तीय धोखाधड़ी के मामले की छानबीन कर रहे हैं.

पिछले महीने ही अमरीका में अधिकारियों ने पता लगाया था कि फ़ॉक्सवैगन की कुछ डीज़ल कारों में कुछ ऐसा सॉफ्टवेयर लगा है जो एमिशन टैस्ट की रिपोर्ट में हेरफेर कर सकता है.

जांच

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption फॉक्सवैगन के नए अध्यक्ष हैंस डीटर पोएट्श

बाद में कार निर्माता कंपनी ने ये स्वीकार किया कि पूरी दुनिया में उसकी करीब एक करोड़ दस लाख कारों में ये सॉफ्टवेयर लगा हो सकता है.

कंपनी ने मामले की विस्तृत जांच शुरू कर दी है लेकिन नए अध्यक्ष हैंस डीटर पोएट्श ने ये माना कि अंतिम जबाब पाने में कुछ वक्त लग सकता है.

फॉक्सवैगन का अनुमान है कि इस मामले से निपटने के लिए 7.4 अरब डॉलर की लागत आएगी लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि कंपनी को इससे कहीं ज़्यादा पैसा लगाना पड़ सकता है.

इस स्कैंडल के बाद से फॉक्सवैगन की शेयर कीमतों में भारी गिरावट आई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार