महिला को पत्थर मार कर मौत की सज़ा रद्द

इमेज कॉपीरइट Science Photo Library
Image caption द्वीपों के समूह मालदीव की आबादी लगभग चार लाख है

मालदीव की सुप्रीम कोर्ट ने एक महिला को सुनाई गई पत्थरों से मार-मार मौत की सज़ा को रद्द कर दिया है.

स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक़ इस महिला को विवाहेत्तर संबंधों का दोषी क़रार देते हुए रविवार को एक मजिस्ट्रेट कोर्ट ने ये सुनाई थी.

लेकिन बाद में, सुप्रीम कोर्ट ने यह कहते हुए इस सज़ा को रद्द कर दिया कि इसमें क़ानूनी प्रक्रियाओं का उल्लंघन हुआ है.

मालदीव में इससे पहले भी विवाहेत्तर संबंधों के मामले में मार-पीट की सज़ाएं सुनाई जाती रही हैं.

लेकिन रविवार को पत्थर मार-मार मौत की सज़ा सुनाए जाने के बाद सोशल मीडिया पर इस मामले की ख़ूब आलोचना हुई और मानवाधिकार समूहों ने इसकी कड़ी आलोचना की.

बीबीसी के दक्षिण एशिया संपादक चार्ल्स हैवीलैंड का कहना है कि मालदीव में संगसार कर मौत की सज़ा दिया जाना अपने आप में अनोखा मामला है.

मालदीव में विवाहेत्तर संबंध ग़ैरक़ानूनी हैं लेकिन देश में आने वाले पर्यटकों पर ये प्रतिबंध लागू नहीं होता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार