मुस्लिम विरोधी टिप्पणी पर मुक़दमा

मारीन ले पेन अदालत में इमेज कॉपीरइट Reuters

फ़्रांस में दक्षिणपंथी पार्टी नेशनल फ्रंट की नेता मारीन ले पेन धार्मिक नफ़रत फैलाने के आरोप में लियॉन की अदालत में पेश हुईं.

ले पेन ने सड़कों पर मुसलमानों के नमाज़ पढ़ने की तुलना कथित तौर पर नाज़ी कब्ज़े से की थी.

उन्होंने 2010 में लियॉन में एक रैली में ये टिप्पणी की थी. उस दौरान वे पार्टी नेतृत्व की दौड़ में शामिल थीं.

फ़्रांस में मारीन ले पेन के प्रवासी विरोध और यूरोपीय संघ के विरोध में दिए गए संदेश को समर्थन बढ़ता जा रहा है.

दिसंबर में होने वाले स्थानीय चुनावों में उनकी पार्टी दो क्षेत्रों में जीत की उम्मीद कर रही है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अदालत के बाहर उन्होंने सुनवाई के समय पर सवाल उठाते हुए कहा, "एक महीने में चुनाव होने वाले हैं और यह मामला भी पांच साल पुराना है.''

दोषी पाए जाने पर उन्हें एक साल जेल की सज़ा या 51 हज़ार डॉलर का जुर्माना भरना पड़ सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

मारीन ले पेन 2011 में नेशनल फ्रंट की नेता बनी थीं.

2010 में उन्होंने कहा था, "यहां कोई टैंक नहीं है, कोई सैनिक नहीं हैं लेकिन फिर भी कब्ज़ा हो रहा है और इससे लोगों को परेशानी होती है."

फ्रांस में मस्जिदों में जगह न मिलने की वजह से सड़कों पर नमाज़ पढ़ने के बढ़ते चलन के राजनीतिक विरोध को देखते हुए इस पर 2011 में प्रतिबंध लगा दिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार