घर होगी ओलंपियन पिस्टोरियस की जेल

इमेज कॉपीरइट AFP

दक्षिण अफ़्रीकी पैरालिम्पिक खिलाड़ी ऑस्कर पिस्टोरियस को जेल से रिहा कर दिया गया है.

वो पिछले एक साल से जेल में थे, अब उन्हें प्रितोरिया में स्थित उनके चाचा के घर में नज़रबंद रखा जाएगा.

ऑस्कर पिस्टोरियस को अपनी गर्लफ्रेंड रीवा स्टीनकैंप की ग़ैर-इरादतन हत्या का दोषी पाया गया था. एक अदालत ने पिछले साथ अक्तूबर में उन्हें पांच साल की सज़ा सुनाई थी.

पिस्टोरियस को सोमवार शाम को जेल से रिहा किया गया. पहले उन्हें मंगलवार को रिहा किया जाना था.

मीडिया की नज़रों से बचाने के लिए ऑस्कर पिस्टोरियस को समय से पहले अंधेरे में उनके चाचा के घर ले जाया गया.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

जेल प्रवक्ता मानेनिसी वलेला ने ऑस्कर पिस्टोरियस की रिहाई की पुष्टि की. उन्होंने कहा कि ऑस्कर नज़पबंदी के दौरान पिस्टोरियस की गतिविधियों पर नज़र रखी जाएगी. हालांकि उनकी इलेक्ट्रॉनिक निगरानी नहीं होगी.

नज़रबंदी के दौरान वो अपने पास बंदूक नहीं रख सकेंगे. उन्हें अपना मनोवैज्ञानिक इलाज़ भी कराना होगा और कुछ समय सामाजिक काम भी करने होंगे.

रीवा स्टींकैम्प की एक रिश्तेदार किम मार्टिन ने कहा कि ऑस्कर पिस्टोरियस के अपराध को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट AP

वहीं रीवा स्टींकैम्प के मां-बाप का कहना है कि ऑस्कर पिस्टोरियस ने जेल में जो समय बिताया है, वह किसी की हत्या के बदले में काफी नहीं है.

पिस्टोरियस को सुनाई गई सज़ा के खिलाफ अभियोजन पक्ष ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की है. इस पर तीन नवंबर को सुनवाई होनी है. अगर वहां अभिजोन पक्ष के पक्ष में फ़ैसला आता है, तो पिस्टोरियस को लंबे समय के लिए जेल जाना पड़ सकता है.

पिस्टोरियस ने 2012 में लंदन ओलंपिक की 400 मीटर दौड़ स्पर्धा में कार्बन से बने ब्लेड पहनकर दौड़ लगाई थी और स्वर्ण पदक जीता था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार