'पाक परमाणु कार्यक्रम भारत से मुक़ाबले के लिए'

इमेज कॉपीरइट AP

पाकिस्तान ने अपने परमाणु कार्यक्रम को लेकर अमरीका के साथ किसी भी समझौते की संभावना को ख़ारिज किया और ये भी स्पष्ट किया है कि पाकिस्तानी परमाणु कार्यक्रम भारत से मुक़ाबले के लिए है.

ये बात पाकिस्तानी विदेश सचिव एज़ाज़ अहमद चौधरी ने वॉशिंगटन में प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के अमरीकी दौरे के एजेंडे को लेकर प्रेस ब्रीफिंग में कही.

सोमवार को अमरीका में पाकिस्तानी राजदूत ख़लील अब्बास के साथ प्रेस कांफ्रेंस में पाकिस्तानी विदेश सचिव ने कहा, "मैं एक बात साफ़ कर दूं कि पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम का एक ही मक़सद था और अब भी है. हमारा परमाणु कार्यक्रम भारत की तरफ़ से पैदा ख़तरों और भारतीय आक्रामता को रोकने के लिए हैं."

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तानी परमाणु हथियारों की सुरक्षा को लेकर विदेशी मीडिया में प्रकाशित होने वाली ख़बरों के बारे में उन्होंने कहा, "पाकिस्तान की परमाणु क्षमता पर कोई डील या समझौता नहीं होगा. पाकिस्तान की परमाणु सुरक्षा और एक्सपोर्ट कंट्रोल को लेकर हमने जो काम किया है, अमरीका समेत सारी दुनिया उसके बारे में जानती है."

इस साल पाकिस्तानी न्यूक्लियर कमांड अथॉरिटी ने सितंबर में पहली बार कहा था कि पाकिस्तान क्षेत्र में पारंपरिक हथियारों के असंतुलन को देखते हुए ज़्यादा प्रभावी छोटे एटमी हथियार बनाने का सिलसिला जारी रखेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार