इस्लामिक स्टेट को 'जनसंहार' करने से रोका

इराक़ी फ़ौज इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका और इराक़ की संयुक्त फ़ौजों ने इस्लामिक स्टेट के हाथों से क़रीब 70 बंधकों को छुड़ा लिया है.

इनमें इराक़ी सुरक्षा बल के 20 जवान भी शामिल हैं.

पेंटागन के प्रवक्ता पीटर कुक ने एक बयान जारी कर कहा, "हमें जानकारी मिली थी कि इस्लामिक स्टेट इन बंधकों की हत्या करने वाला है. इस सूचना के आधार पर हमने सुनियोजित तरीके से आईएस के ठिकानों पर हमला कर बंधकों को छुड़ा लिया."

लेकिन इस हमले में एक अमरीकी सैनिक भी मारा गया.

इमेज कॉपीरइट EPA

पिछले साल से आईएस के ख़िलाफ़ शुरू किए गए अमरीकी ऑपरेशन में मरने वाला ये पहला अमरीका सैनिक था.

पेंटागन ने दावा किया कि उत्तरी इराक़ के हावीजा शहर में हुए इस संघर्ष में इस्लामिक स्टेट के कई चरमपंथी मारे गए और पांच को क़ैद कर लिया गया.

लेकिन कुर्दिश सूत्रों ने बीबीसी से बात करते हुए दावा किया कि सिर्फ़ 17 बंधकों को ही छुड़ाया गया और सभी पूर्व आईएस चरमपंथी हैं. कुर्द सेनाओं ने बताया कि छुड़ाए गए लोगों में एक भी कुर्द शामिल नहीं है.

इस क्षेत्र में कुर्द सेनाओं और आईएस के बीच भी कड़ी लड़ाई जारी है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार