भूकंप के छह महीने बाद भी जूझता नेपाल

  • 29 अक्तूबर 2015
इमेज कॉपीरइट BINITA DAHAL

नेपाली कलेंडर के मुताबिक़ नेपाल में आए भूकंप को आज छह महीने पूरे हो रहे हैं.

बीते अप्रैल में आए भूकंप में क़रीब आठ हज़ार लोग मारे गए थे और कई ऐतिहासिक इमारतें क्षतिग्रस्त हो गई थीं.

इमेज कॉपीरइट BINITA DAHAL
Image caption भूकंप में क्षतिग्रस्त सिंधुपालचौक अब भी संभल नहीं पाया है.

यह भूकंप रिक्टर स्केल पर 7.8 तीव्रता वाला था.

आज भी नेपाल में इस भूकंप से तबाह हुई ज़िंदगी ढर्रे पर नहीं आई है.

इमेज कॉपीरइट BINITA DAHAL
Image caption नेपाल के सांस्कृतिक शहर भक्तापुर में तबाही के निशान अब भी मौजूद हैं.

काठमांडू, भक्तापुर, और सिंधुपलचौक की ये चंद तस्वीरें यही बयां करती हैं.

इमेज कॉपीरइट BINITA DAHAL
Image caption भक्तापुर का मशहूर भटसाला मंदिर भूकंप में ढह गया था.
इमेज कॉपीरइट BINITA DAHAL
Image caption लोग अब भी कैंपों में सामान्य ज़िंदगी के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं.
इमेज कॉपीरइट BINITA DAHAL
Image caption भूकंप के कारण दूर दराज के इलाकों में घर ढहे और राजधानी से दूर रहने के कारण उन्हें जल्द मदद भी नहीं मिल सकी थी.
इमेज कॉपीरइट BINITA DAHAL
Image caption भूकंप से सबसे अधिक क्षति काठमांडू के आस पास के इलाकों में हुई थी.
इमेज कॉपीरइट BINITA DAHAL
Image caption भूकंप से बेघर हुए लोग अभी भी टेंटों में रहने पर मजबूर हैं.

नेपाल में पुनर्निर्माण का काम किया जा रहा है और इसमें भारत समेत दुनिया के कई देश मदद कर रहे हैं लेकिन ऐसा लगता है कि भूकंप की त्रासदी से उबरने में अभी देश को और वक़्त लगेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार