बीयर गटकें या फिर लें वाइन की चुस्की?

इमेज कॉपीरइट istock

बीयर बेहतर है या वाइन? ये अमूमन वैसा ही सवाल है जैसा कि लोग पूछते हैं कि चाय अच्छी है या कॉफ़ी.

यदि स्वाद की बात ना भी करें, तब भी ये जानने में अनेक लोगों की दिलचस्पी होगी कि इन दोनों में अंतर क्या है, और इससे मानव शरीर और स्वास्थ्य पर क्या असर होता है.

बीयर पीने से मोटापा बढ़ता है या वाइन पीने से? इन दोनों का हमारा हृदय पर क्या प्रभाव पड़ता है? बीयर पीने से ज़्यादा नशा होता है या वाइन से, और हैंगओवर का क्या?

बीबीसी फ़्यूचर ने इन सारे सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश की है.

बीयर के एक पाइंट (लगभग 568 मिली लीटर) और वाइन के एक मिडियम ग्लास (175 मिली लीटर) में अल्कोहल की मात्रा लगभग एकसमान होती है. इन दोनों में 16 से 24 मिलीलीटर अल्कोहल होता है.

इमेज कॉपीरइट istock

वाइन या बीयर का असर तभी आप पर होता है जब अल्कोहल आपके रक्त में शामिल होता है. यह किस रफ़्तार से होता है, ये काफी हद तक आपकी ड्रिंक और उसे कितने समय में पिया जा रहा है, उस पर निर्भर करता है.

यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास के साउथवेस्टर्न मेडिकल सेंटर के मैक मिचेल ने 15 लोगों के समूह को अलग अलग दिनों में अलग अलग ड्रिंक पीने के दी.

उन्होंने ये ख़्याल रखा कि हर आदमी के बॉडी वेट के मुताबिक ही अल्कोहल दिया जाए. सभी 15 लोगों को एक ही रफ़्तार से ड्रिंक ख़त्म करने को कहा गया, करीब 20 मिनट में.

इस प्रयोग में देखा गया है हार्ड ड्रिंक्स यानी शराब सबसे जल्दी रक्त में शामिल होती है, इसके बाद वाइन और फिर बीयर. वाइन पीने के 54 मिनट बाद रक्त में अल्कोहल की मात्रा सबसे ज़्यादा होती है और बीयर पीने के 64 मिनट बाद अल्कोहल की मात्रा खून में सबसे ज़्यादा होती है.

यानी वाइन के ग्लास का नशा बीयर के पाइंट के मुक़ाबले ज़्यादा तेज़ी से दिमाग पर चढ़ता है.

अब सवाल यह है कि बीयर से पेट ज़्यादा बढ़ता है या वाइन पीने से.

इमेज कॉपीरइट istock

बीयर के बारे में कहा जाता है कि इसके सेवन से मोटापा बढ़ता है. यह काफ़ी हद तक सही हो सकता है. ड्रिंक को बेहतर स्वाद देने के लिए इसमें इस्तेमाल की जाने वाली चीनी को अगर छोड़ भी दें, तो अल्कोहल में ही खासी कैलोरी होती हैं.

180 कैलोरी वाली बीयर के पाइंट में वाइन के छोटी ग्लास की तुलना में 50 प्रतिशत ज़्यादा ऊर्जा होती है, जो आपका मोटापा बढ़ाती है.

कम वाइन या बीयर पीने वालों के लिए यह अंतर बहुत मायने नहीं रखता है. हाल के एक अध्ययन के मुताबिक शॉर्ट टर्म में ना तो वाइन पीना मोटापा बढ़ाता है और ना ही बीयर.

इस पहलू पर सबसे विस्तृत अध्ययन 10 सप्ताह तक चला है. इस अध्ययन में मामूली तौर पर वजन बढ़ने को नजरअंदाज़ भी किया गया होगा. अगर इस दौरान एक किलोग्राम वजन को नज़रअंदाज़ किया गया हो तो पांच साल में यह 25 किलोग्राम हो सकता है.

इसके अलावा ये भी धारणा है कि बीयर पीने से पुरुषों की छाती फूल जाती है, लेकिन यह निराधार मिथक ही है.

बीयर पीने से ज़्यादा हैंगओवर होता है या वाइन से... काफ़ी कोशिशों के बाद भी शोधकर्ता इसको लेकर सटीक व्याख्या नहीं कर सके हैं. यह किन चीज़ों पर निर्भर होता है, इसका भी वैज्ञानिक अभी तक पता नहीं लगा पाए हैं.

डिहाइड्रेशन एक प्रमुख कारक हो सकता है. अल्कोहल के कारण हम पेशाब ज़्यादा करते है, जितना पानी शरीर में जाता है, उससे ज़्यादा बाहर निकल जाता है. लेकिन यह फरमेंटेशन के चलते भी हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट istock

इसके अलावा पेय के स्वाद और सुगंध को प्रभावित करने के लिए रसायन भी मिलाए जाते हैं. माना जाता है कि गहरे रंग वाले पेय में ऐसे रसायन ज़्यादा मिलाए जाते हैं. बोरबन (51 फ़ीसदी माल्ट वाली शराब) गहरे रंग की होती है और इसका हैंगओवर भी ज़्यादा होता है. लेकिन बीयर और वाइन से होने वाला हैंगओवर एकसमान ही होता है.

स्वास्थ्य के लिए बीयर अच्छी है या वाइन?

अमूमन कहा जाता है कि वाइन का रोज़ाना एक ग्लास शरीर को तरोताजा रखने में मददगार होता है. इसके अलावा ये भी कहा जाता है कि ऐसा सेवन हृदय रोग के ख़तरे, हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज जैसी बीमारी के ख़तरे से बचा सकता है.

शरीर को फ़ायदा पहुंचाने वाले ये गुण पॉलीफेनॉल्स में होते हैं, जो ख़ासकर रेड वाइन में पाए जाते हैं, शरीर में कहीं भी सूजन हो, उसे कम करते हैं और शरीर के हानिकारक रसायनों को दूर करते हैं.

इमेज कॉपीरइट thinkstock

बीयर में ऐसे बहुत से गुण नहीं होते, लेकिन उसमें भी पॉलीफेनॉल्स होते हैं, उसी तरह जैसे व्हाइट वाइन में होते हैं. लेकिन इस लिहाज़ से रेड वाइन सबसे बेहतर है.

हालांकि इन तमाम अध्ययनों में किसी भी ड्रिंक्स के ज़्यादा पीने को हानिकारक ही माना गया है. कभी कभी यदि एक ग्लास रेड वाइन पी जाए तो उसके फ़ायदे हो सकते हैं.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी फ़्यूचर पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार